ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार गयाछह माह के गर्भवती महिला के सिकुड़े हार्ट के वाल्ब का हुआ ऑपरेशन

छह माह के गर्भवती महिला के सिकुड़े हार्ट के वाल्ब का हुआ ऑपरेशन

जिले के बाराचट्टी की रहने वाली 22 वर्षीय गर्भवती महिला के सिकुड़े हार्ट के वाल्ब का सफल ऑपरेशन हुआ। ऑपरेशन के दुसरे दिन ही महिला को अस्पताल से छुटटी...

छह माह के गर्भवती महिला के सिकुड़े हार्ट के वाल्ब का हुआ ऑपरेशन
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,गयाWed, 22 Jun 2022 08:40 PM

जिले के बाराचट्टी की रहने वाली 22 वर्षीय गर्भवती महिला के सिकुड़े हार्ट के वाल्ब का सफल ऑपरेशन हुआ। ऑपरेशन के दुसरे दिन ही महिला को अस्पताल से छुटटी भी दी गयी। शहर के एपी कॉलोनी स्थित शुभकामना हार्ट हॉस्पिटल एंड मैट्रनिटी सेंटर के ह्रदय रोग विशेषज्ञ डॉ. अमन सिन्हा ने बताया कि मायट्रल स्टेनोसिस एक आम बीमारी है, जिसमे वाल्व सिकुरने के वजह से हार्ट फेल हो जाता है। केस चुनौती पूर्ण था। एक तो महिला छह माह की गर्भवती थी। वहीं, उसके वाल्ब अधिक सिकुड़ गये थें। ऐेसे में भी बिना महिला को बेहोश किये हुये आधे घंटे में उसका सफल आपॅरेशन किया गया।

चलने या सीढी चढने में सांस फुलता है तो ना करे नजरअंदाज

उन्होंने बताया कि यह कॉमन बीमारी है जो पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं में अधिक होता है। खाास कर 20 से 35 वर्ष की महिलायों में यह बीमारी ज्यादा तर देखा गया है। ऐसे में अगर किसी भी महिला को चलने या सीढी चढने में सांस फुलता है तो इसे नजरअंदाज ना करें। इक्को स्कैन करा कर वाल्ब की स्थिति को देखें और किसी ह्रदय रोग चिकित्सक से सलाह जरूर ले। नहीं तो इस रोग से ग्रसित मरीज की मृत्यु पांच साल के अंदर हार्ट फेल हो जाने से हो जाती है।

नहीं होती है किसी प्रकार की परेशानी

डॉ. सिन्हा ने बताया कि इस ऑपरेशन के बाद किसी प्रकार की कोई परेशानी नहीं होती है। मरीज को दूसरे ही दिन अस्पताल से छुटटी दे दी गयी और वह बिल्कुल स्वस्थ है और घर के सभी कार्य भी कर रही है।

epaper