Shri Durga Prana Pratishtha and Shatchandi Mahayaj - जलभरी के साथ शुरू हुआ श्री दुर्गा प्राण प्रतिष्ठा एवं शतचंडी महायज्ञ DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जलभरी के साथ शुरू हुआ श्री दुर्गा प्राण प्रतिष्ठा एवं शतचंडी महायज्ञ

फतेहपुर प्रखंड की उत्तरी लोधवे पंचायत के बेला गांव में रविवार से जलभरी के साथ श्री दुर्गा प्राण प्रतिष्ठा एवं शतचंडी महायज्ञ का भव्य शुभारंभ हुआ। इस जलभरी यात्रा में काफी संख्या में महिला -पुरुष श्रद्धालु शामिल हुए। इनके जयकारे से पूरा इलाका गूंजायमान रहा। इस छह दिवसीय महायज्ञ के पहले दिन बेला गांव स्थित यज्ञ स्थल से गाजे- बाजे के साथ जलभरी शोभा यात्रा निकाली गई। शोभा यात्रा बेला, गणेशडीह, कांटी, लोधवे आदि गांवों और बाजार का भ्रमण करते हुए अमरावती नदी पहुंची। यहां से मंत्रोच्चार के साथ कलश में जलभरी कर श्रद्धालु पूण: उसी रास्ते से होते हुए चार किलोमीटर की दूरी तय कर बेला गांव स्थित यज्ञ स्थल पर पहुंचे। यहां वैदिक मंत्रोच्चार के साथ कलश को स्थापित किया गया। कलश यात्रा में सैकड़ों की संख्या में शामिल महिलाएं, युवतियां, युवक और पुरुषों के भक्तिमय गीतों व जयकारे की गूंज से सम्पूर्ण क्षेत्र भक्तिमय बना रहा। चिलचिलाती धूप और भीषण गर्मी को देखते हुए लोधवे में पूर्व पंचायत समिति सत्येन्द्र मालाकार के द्वारा शर्बत व पानी की उत्तम व्यवस्था की गई थी। महायज्ञ समिति के अध्यक्ष गोपाल प्रसाद व सचिव पंचायत समिति सदस्य अरविंद राजवंशी ने बताया कि यह श्री दुर्गा प्राण प्रतिष्ठा एवं शतचंडी महायज्ञ विद्वान आचार्य धनंजय पांडेय जी के आचार्यत्व में हो रहा है। विश्व कल्याणार्थ यह महायज्ञ शुरू किया गया है। इस महायज्ञ में विद्वान ब्राह्मणों द्वारा दिन में पाठ और रात में अयोध्या से पधारे विद्वान रंजीत शास्त्री द्वारा प्रवचन किया जा रहा है। इसके साथ ही रात्रि में रामलीला का भी आयोजन किया गया है जिसका लोग आनंद ले रहे हैं। इस महायज्ञ में बूंदी राजवंशी, सुजीत चौहान, अमीरक राजवंशी, संजय राजवंशी, शिवकुमार शर्मा, फौजदारी मांझी आदि सहित पूरे गांव का सहयोग मिल रहा है।यज्ञ में प्रवचन सुनने के लिए लोगों की उमड़ रही भीड़फोटो-प्रखंड के धनछुहा गांव में आयोजित अमरकथा यज्ञ में प्रवचन करते स्वामी समदर्शी जी महाराज व अन्य।कोंच।एक संवाददाताप्रखंड के धनछुहा गांव में आयोजित अमरकथा यज्ञ के पांचवे दिन भगवान गणेश की जन्मोत्सव मनाया गया। इसमें कथा वाचक आचार्य समदर्शी महाराज ने भगवान गणेश की जन्म पर छप्पन प्रकार के व्यजनों का बना प्रसाद का भोग लगाया। साथ ही सम्पूर्ण पाठ की। उन्होंने कहा कि सब जीवों में मनुष्य तन काफी सर्वोत्तम है। मनुष्य को भक्ति भाव के साथ भगवान की स्मरण करनी चाहिए। अपने जीवन में असहाय को सहयोग करने से पुण्य की प्राप्ति होती है। इस मौके पर समाजसेवी पतिराम शर्मा, रंजीत कुमार, विक्रम कुमार, अशोक चन्द्रवंशी, सोहन यादव आदि शामिल थे। यज्ञ का समापन 31 मई को होगी। इस बीच धनछुहा गांव सहित सिन्दूवारी,खजूरी,नेवधी, बड़गांव सहित आसपास के ग्रामीण प्रवचन सुनने के लिए जुट रहे हैं। इधर वहीं कैईंयाटाड़ गांव में मंगलवार से श्रीमद्भागवत सप्ताह सह ज्ञान यज्ञ की शुरुआत होगी। व में इसकी तैयारी जोरों पर चल रही है। 28 मई को जलभरी कार्यक्रम के साथ यज्ञ का शुभारंभ होगा। यह यज्ञ स्वामी रामप्रपन्ननचार्य जी मजराज की अगुवाई में कई जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Shri Durga Prana Pratishtha and Shatchandi Mahayaj