DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सरकारी बसों का परिचालन रोके जाने पर कई संगठनों का विरोध हुआ मुखर

शेरघाटी-चेरकी पथ पर राज्य पथ परिवहन निगम की बसों का परिचालन रोके जाने के मामले को लेकर विभिन्न राजनीतिक संगठनों का विरोध मुखर होता जा रहा है। बुधवार को जन अधिकार पार्टी के संतोष कुमार यादव ने शेरघाटी के एसडीओ से मुलाकात कर चेरकी पथ में फिर से सरकारी बसों का परिचालन शुरु कराने की मांग की है। उधर भाजपा के रमेशचंद्र ने भी गया के आयुक्त एंव जिलाधिकारी तथा परिवहन निगम के अधिकारियों को पत्र लिखकर बसों के परिचालन से रोक हटाने की मांग की है।इससे पूर्व शेरघाटी के विधायक विनोद प्रसाद यादव ने भी अधिकारियों से बात कर बसों का परिचालन रोके जाने के फैसले पर पुनर्विचार करने का अनुरोध किया था। नेताओं का कहना है कि प्राइवेट बस संचालकों के हित में आम जनों की तकलीफों को नजरअंदाज कर क्षेत्रीय परिवहन प्राधिकार की एक गैर सरकारी सदस्य ने अधिकारियों को गुमराह कर दिया था। पूर्व विधायक और मगध के क्षेत्रीय परिवहन प्राधिकार की गैरसरकारी सदस्य ज्योति देवी की आपत्ति के बाद शेरघाटी-चेरकी मार्ग पर राज्य पथ परिवहन निगम की बसों का 25 मई से चलना बंद हो गया है।सूत्रों के मुताबिक पूर्व विधायक ने इस मार्ग पर चिताब में बुढ़िया नदी पर बने पुल के जर्जर और कमजोर होने के आधार पर राज्य पथ परिवहन निगम की बसों के चलने पर गत 25 मई को गया जिला मुख्यालय में तत्कालीनय मंडलायुक्त जितेंद्र श्रीवास्तव की अध्यक्षता में हुई परिवहन प्राधिकार की बैठक में जोरदार ढंग से आपत्ति की थी। राज्य पथ परिवहन निगम के एक कर्मी रामजीत कुमार ने बताया कि इस मार्ग पर गया से शेरघाटी तक चलने वाली दो बसें बंद हो गई हैं, इस वजह से ऑटो और दूसरी सवारी से सफर करने वालों को दोगुना भाड़ा चुकाना पड़ रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Political organisations protest the decision of stopping the traffic of state bus on cherki road