DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  गया  ›  कोंच में नेरा व सेनाने नदी बरसात में कई गांव के लिए बन जाती है आफत
गया

कोंच में नेरा व सेनाने नदी बरसात में कई गांव के लिए बन जाती है आफत

हिन्दुस्तान टीम,गयाPublished By: Newswrap
Tue, 15 Jun 2021 10:30 PM
कोंच में नेरा व सेनाने नदी बरसात में कई गांव के लिए बन जाती है आफत

फोटो कैप्शन-1.कोंच प्रखंड के बड़गांव के पास सेनाने नदी।

फोटो कैप्शन-2.कोंच प्रखंड के नेवधी का पास नेरा नदी।

कोंच | एक संवाददाता

कोंच प्रखंड की नेरा व सेनाने नदी अपने आप काफी छोटी व बरसाती नदी है। लेकिन बरसात के मौसम में कुछ गांव के लिए इन दोनों नदियां आफत बन जाती है। सेनाने नदी बड़गांव गांव के महादलित टोले को प्रभावित कर रही है। इसका पानी बड़गांव के महादलित टोले में घुस जाता है। जिससे लोगों को जीना मुश्किल कर देता है। स्थानीय निवासी सह पूर्व मुखिया मिथिलेश पासवान ,ग्रामीण विकास कुमार ने बताया कि मांझी, पासवान, चौधरी का लगभग डेढ़ सौ महादलित परिवार का घर प्रभावित होता है। इन घरों में हर साल पानी घुस जाता है। हालांकि, पूर्व मुखिया ने बताया कि गांव के पास पहले से बने पुलिया काफी छोटा था। बरसात के दिनों में नदी में अचानक अधिक पानी आने की वजह से पानी ओवर फ्लो होकर महादलित टोले में घुस जाता था। लेकिन अब इस नदी पर नया पुल का निर्माण कार्य चल रहा है। इससे गांव में पानी घुसने की समस्या खत्म हो जाएगी।

वहीं दूसरी ओर नेरा नदी का पानी आधा दर्जन गांव को प्रभावित कर देती है। नेवधी गांव निवासी सह पूर्व उपप्रमुख किशोर यादव ने बताया कि नेरा नदी का पानी नेवधी,कुईं, बढ़ौना,अंसारा,गेंद बिगहा, रोड़ापाकर,उसास-देवरा नदी किनारे बसे अन्य गांव के घरों में घुस जाता है। इसका वजह बताया जाता है कि लंबे वक्त से बरसात की स्थिति ठीक नहीं रहने की वजह से कई स्थानों पर लोगों द्वारा नदी की भरावट कर दिया गया। लेकिन दो साल से अच्छे बरसात होने के कारण बारिश के मौसम में नदियों में उफान आ जाता है। इन बस्तियों के मुहल्ले में पानी घुसने से मिट्टी वाले मकान को काफी नुकसान होता है। पूर्व उपप्रमुख किशोर यादव ने बताया कि कई बार समिति की बैठक में इन बस्तियों के पास नदी में गार्डवॉल बनाने की मांग की। लेकिन आजतक कोई पहल नहीं हुआ।

संबंधित खबरें