DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  गया  ›  संत कबीर के समावेशी व समता मूलक विचारों को अपनाने की जरूरत
गया

संत कबीर के समावेशी व समता मूलक विचारों को अपनाने की जरूरत

हिन्दुस्तान टीम,गयाPublished By: Newswrap
Thu, 24 Jun 2021 11:00 PM
संत कबीर के समावेशी व समता मूलक विचारों को अपनाने की जरूरत

फ़ोटो -मानपुर में बुनकर क्षेत्र पटवा टोली मुहल्ले में संत कबीर की जयंती का उद्धाटन करते गोपाल पटवा व अन्य

मानपुर(ए स) ।

प्रखंड के बुनकर क्षेत्र पटवा टोली मुहल्ले स्थित लक्ष्मी पार्क में गुरुवार को संत कबीर की 624 वे जयंती हर्षोउल्लास के साथ मनायी गयी ।यह कार्यक्रम बिहार प्रदेश बुनकर कल्याण संघ के द्वारा आयोजित किया गया । कार्यक्रम की शुरुआत बुनकर कल्याण संघ के अध्यक्ष, वार्ड पार्षद प्रमिला देवी पटवा , समरतिया देवी व पटवा समाज के पूर्व सभापति लीला राम द्वारा संयुक्त रूप से किया गया। इस मौके पर संघ के प्रदेश अध्यक्ष द्वारा संत कबीर के जीवन वृत पर विस्तार रूप से प्रकाश डालते हुए कहा कि संत कबीर के दोहे में अनुभूति की सच्चाई एवं अभिव्यक्ति का खरापन है ।उनके विचार को वर्तमान परिवेश में आत्मसात करने की आवश्यकता है ।उनका सर्वब्यापी ,समजवेशी, समता मूलक ,समरस समाज के स्थापना विचारों को अपनाने की जरूरत है ।

संबंधित खबरें