DA Image
Monday, November 29, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार गयाबिजली और सड़क से महरूम है मोनवार गांव

बिजली और सड़क से महरूम है मोनवार गांव

हिन्दुस्तान टीम,गयाNewswrap
Sun, 14 Nov 2021 07:20 PM
बिजली और सड़क से महरूम है मोनवार गांव

बांकेबाजार। राहुल प्रियदर्शी

बिजली और सड़क यही दो चीजें हैं जो राज्य सरकार की उपलब्धियों में गिनी जाती हैं। लेकिन यही दो चीजें यहां नहीं पहुंची हैं। मोनवार गांव में 6 किलोमीटर का लंबी रास्ता यहां के ग्रामीण पगडंडियों के सहारे पार करके तब नमक और सब्जी खरीदने के लिए सड़क पर पहुंचते हैं। मोनवार गांव बिजली और सड़क जैसी आवश्यक सुविधाओं से महरूम है।

यहां के स्कूल की भी स्थिति अच्छी नहीं है। आसपास सिर्फ घास उग गए हों और कई महीनों से स्कूल का ताला नहीं खुला है। ग्रामीण पार्वती देवी, रमेश भोक्ता, शुकवरिया देवी बताती हैं कि स्कूल में टीचर पढ़ाने के लिए नहीं पहुंचते हैं। महीना में कभी-कभार ही स्कूल खुलता है। डुमरिया का यह सुदूरवर्ती जंगली इलाका प्रखंड मुख्यालय से करीब 10-12 किलोमीटर दूरी पर जंगल और पहाड़ से घिरा हुआ है। चारों तरफ जंगल और पहाड़ और बीच में बसा यह मोनवार गांव।

डुमरिया से पहुंचने में कई छोटी-छोटी नदियां और आहर है। यहां से मोटरसाइकिल तो दूर पैदल पार करना भी मुश्किल है। सुदूरवर्ती और दुर्गम इलाके में बसने वाले लोग पैदल ही आवाजाही करते हैं। उबड़-खाबड़ रास्ते और पगडंडियों के सहारे लोगों का आना-जाना होता है। मोनवार गांव के बघबोरवा टोला में नक्सलियों ने शनिवार रात एक बड़ी घटना को अंजाम दिया है। मोनवार गांव तब सुर्खियों में आया जब यहां नक्सलियों ने 4 व्यक्तियों की निर्मम हत्या कर दी।

गांव के सत्येंद्र सिंह भोक्ता, सगा भाई महेंद्र सिंह भोक्ता और दोनों की पत्नी क्रमशः से मनोजवा देवी व सुनीता देवी की हत्या कर शव को फांसी पर लटका दिया गया। इस जंगली और पहाड़ी जैसे दुर्गम इलाके में पुलिस को पहुंचने में करीब 10 घंटे का वक्त लगा। घटना के बाद से पूरे गांव में सन्नाटा पसरा है।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें