DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  गया  ›  बोधगया मठ में महंथ की हुई ताजपोशी, त्रिवेणी गिरी बनाए गए नए महंथ
गया

बोधगया मठ में महंथ की हुई ताजपोशी, त्रिवेणी गिरी बनाए गए नए महंथ

हिन्दुस्तान टीम,गयाPublished By: Newswrap
Tue, 13 Apr 2021 07:50 PM
बोधगया मठ में महंथ की हुई ताजपोशी, त्रिवेणी गिरी बनाए गए नए महंथ

बोधगया मठ में महंथ की हुई ताजपोशी, त्रिवेणी गिरी बनाए गए नए महंथ

बोधगया। निज संवाददाता

बोधगया स्थित शंकराचार्य मठ के नए महंत की मंगलवार की सुबह विधिवत ताजपोशी हुई। महंत धनसुख गिरी के शिष्य त्रिवेणी गिरी को संतो ने वैदिक मंत्रोचारण के साथ महंताई के गद्दी पर आसीन कराया। अहले सुबह मठ परिसर में बोधगया के सैकड़ों शहर वासियों और संत समाज की मौजूदगी में नए महंत को महंताई का दस्तूर हुआ। बोधगया मठ के परंपरा के अनुसार संतो व बोधगया वासियों ने सर्वसम्मति से त्रिवेणी गिरी को महंत के पद पर मनोनीत किया। कोविड-19 को लेकर संक्षेप आयोजन में विधिवत महंथ के ताजपोशी का कार्यक्रम संपन्न हुआ। बोधगया विधायक कुमार सर्वजीत के अलावे हजारों लोग इस आयोजन का गवाह बने।

इस मौके पर विधायक कुमार सर्वजीत ने बोधगया मठ के विकास कार्य में 25 लाख रुपया की योजना की घोषणा की। उन्होंने कहा बोधगया मठ अपनी पुरानी परंपरा, पुरानी गरिमा एवं पुराने स्वरूप को प्राप्त करें। कहा त्रिवेणी गिरी की अध्यक्षता में अब मठ का विकास सर्वांगीण रूप से होगा। भगवान बुद्ध की यह भूमि धर्म और अध्यात्म की राजधानी है। किन्ही कारणों से बोधगया मठ बहुत दिनों से अपनी गरिमा खोता जा रहा था। और वर्तमान समय में मठ की गतिविधियां में काफी गिरावट आई थी। आज से समाज के सभी वर्गों के लोगों की यही आशा है कि बोधगया मठ अपने पुराने गौरव को फिर से प्राप्त करेगा।

मठ के महंत चुनने की है अपनी परंपरा

बोधगया मठ के महंत चुनने की अपनी परंपरा है। महंत चुनने से पूर्व एक आम सभा के बैठक में बोधगया मठ के परंपरा प्राप्त महात्मा के बीच से पांच महात्मा को पंच के रूप में चुना जाता है। इन्हीं पंचों के माध्यम से बोधगया मठ के साधुओं के बीच से एक योग्य महात्मा को महंत के रूप में चयन किया जाता है। इसी परंपरा का निर्वहन करते हुए मंगलवार को पंचों के माध्यम से त्रिवेणी गिरी को महंत के रूप में चयन किया गया। पंच में बोधगया मठ के वरिष्ठ महात्मा पूर्व न्यास समिति के अध्यक्ष गोस्वामी दीन दयालु गिरी, गोस्वामी हरिवंश गिरी, स्वामी गंगा शरण गिरी, जयानंद गिरी एवं गोस्वामी त्रिवेणी गिरी थे। जिसमें दीनदयाल गिरि एवं गोस्वामी त्रिवेणी गिरी के नामों पर चर्चा होने के पश्चात सभी पंचों ने त्रिवेणी गिरी के नाम महंत पद के लिए योग्य माना। हिंदू नव वर्ष के अवसर पर अभिजीत मुहूर्त में गोस्वामी त्रिवेणी गिरी को महंत पद पर आसीन किया गया। महंथ त्रिवेणी गिरी ने कहा कि आप सभी की आशाओं के अनुसार काम करने का पूरा प्रयास करूंगा। मठ के विकास के लिए जो प्रयास होगा करेंगे। इस मौके पर बोधगया होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष जय सिंह, डेल्टाग्रुप के एमडी संजय कुमार सिंह , रामचंद्र प्रसाद यादव, लुलन सिंह, अशोक यादव, शंकर यादव, रणविजय सिंह, मुन्नी यादव, सुरेंद्र गुप्ता,  भोला मिश्रा सहित अन्य मौजूद थे।

संबंधित खबरें