DA Image
16 जनवरी, 2021|1:58|IST

अगली स्टोरी

छत पर ही कुंड बना देंगे भगवान भास्कर को अर्घ्य

default image

कोरोना काल को लेकर सरकार सोशल डिस्टेसिंग बनाये रखने व मास्क लगाने के निर्देश दिये है। इस बीच नदी व तालाबों पर बच्चों व वृद्ध को जाने की मनाही है। ऐसे में कई परिवार अपने घरोंं में ही कोरोना संक्र्रमण से बचते हुये भगवान भास्कर को अर्घ्य देने की व्यवस्था में जुटे हुये है। ऐसे ही शहर के किशोरी मोहन कम्पलेक्स में रहने वाले शम्भू अग्रवाल के परिवार है जो अपने अर्पाटमेंट के छत पर ही कुंड बना छठव्रत करने की तैयारी की है। ना सिर्फ अग्रवाल परिवार ऐसे दर्जनो परिवार है जो इसबार अपने घर के छत या बगीचे में छठव्रत में भगवान को अर्घ्य देने की व्यवस्था की है। दस वर्षों से परिवार में हो रहा छठ शम्भू अग्रवाल बताते हैं कि उनका परिवार काफी बड़ा है। पिछले दस साल से उनके यहां छठ पर्व हो रहा है। पहले जब वह बजाजा रोड में रहते थें तब वह नदी में अर्घ्य देने के लिए जाते थे। लेकिन अब तो नदी में स्वच्छ जल कम नाली का पानी पहले मिलता है। इसके कारण मन दु:खी हो जाता है। हालांकि निगम द्वारा साफ-सफाई की बेहतर व्यवस्था रहती है। लेकिन भीड़ से बचने के लिए घर में ही कृत्रिम कुंड बना छठ पर्व कर रहे है।कोलकाता से बेटी आकर कर रही छठ व्रत उन्होंने बताया कि छठ मैया व हमारे परिवार में इतनी आस्था है कि मुम्बई, सुरत, कोलकाता सहित अन्य शहरो से परिवार के बेटी, साली, सरहज सहित अन्य सदस्य छठ में यहां आकर एक साथ छठ करते है। इस बार कोलकाता में एक युपीएस बनाने बनी कंपनी में नेशनल हेड की पद पर कार्यरत बेटी शिल्पा छठ करने के लिए आयी हुयी है। छठव्रति शिल्पा ने बताया कि आज के आधुनिक युग में बड़े पद पर है लेकिन हमारी आस्था भगवान के प्र्रति शुरू से रही है। इसके पहले दो बार हम जो भी मन्नत लेकर छठ मैया की अराधना किये है वह पुरी हुयी है। इस बार भी कुछ मनोकामना के साथ पूजा कर रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Lord Bhaskar will get arghya on the roof