ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार गयाकायस्थ जाति नहीं संस्कृति हैं, 21 प्रदेशों में करते हैं निवास

कायस्थ जाति नहीं संस्कृति हैं, 21 प्रदेशों में करते हैं निवास

कायस्थ जाति नहीं संस्कृति है। कायस्थ पूरे देश के 21 प्रांतों में निवास करते हैं। प्रारंभिक काल से कायस्थ कलम और तलवार दोनों से धनी रहे हैं। आज के...

कायस्थ जाति नहीं संस्कृति हैं, 21 प्रदेशों में करते हैं निवास
हिन्दुस्तान टीम,गयाSun, 26 Mar 2023 07:30 PM
ऐप पर पढ़ें

कायस्थ जाति नहीं संस्कृति है। कायस्थ पूरे देश के 21 प्रांतों में निवास करते हैं। प्रारंभिक काल से कायस्थ कलम और तलवार दोनों से धनी रहे हैं। आज के समय में सभी प्रदेश के कायस्थों का सिलसिलेवार विवरण और पुराने जमाने से नए जमाने तक उनकी उपस्थिति का क्रमवार बोध जिस पुस्तक से होता है वही है कायस्थ इनसाइक्लोपीडिया है।

ये बातें रविवार को कायस्थों के अस्तित्व और विरासत पर आयोजित चिंतन कार्यक्रम शिविर में बतौर मुख्य अतिथि इनसाइक्लोपीडिया के पूर्व आईपीएस प्रधान संपादक सह संयोजक उदय सहाय ने कहीं। शहर के रायकाशीनाथ मोड़ पर स्थित एक होटल में अखिल भारतीय कायस्थ महासभा जिला इकाई गया के बैनर आयोजित शिविर में श्री सहाय ने कहा कि इनसाइक्लोपीडिया में देश ही नहीं संसार भर के कायस्थों को एक सूत्र में बांधने का प्रयास किया गया है। कश्मीर से कन्याकुमारी तक और कच्छ से लेकर आसाम तक कायस्थ परिवारों की विभिन्न मूल जातियां निवास करती है। श्री सहाय ने पावर पॉइंट प्रेजेंटेशन के जरिए कृति पर विस्तार पूर्वक चर्चा करते हुए उपस्थित कायस्थ परिवारों को उनके कायस्थ मूल वंश की उत्पत्ति, उनके मूल निवास स्थान और कायस्थ जाति का विस्तार पर सारगर्भित तरीके से चर्चा की।

धन्यवाद ज्ञापित करते हुए आयोजक मोहन श्रीवास्तव ने कहा कि कई मामलों में कार्यक्रम सफल रहा। सांस्कृतिक और सामाजिक विषय पर आधारित विचार विमर्श के नाम ढाई हजार से अधिक चित्रांश शामिल हुए। समाज से जुड़े कई बातों पर विस्तार से चर्चा की गई। इससे पहले कार्यक्रम का उद्घाटन पूर्व आईपीएस उदय सहाय, कायस्थ महासभा के प्रदेश अध्यक्ष विनोद श्रीवास्तव, मेयर गणेश पासवान, जिला इकाई के अध्यक्ष, पूर्व डिप्टी मेयर मोहन श्रीवास्तव, मनोरोग विशेषज्ञ डॉ मृदुला नारायण,अधिवक्ता इंदु सहाय सहित अन्य मंचासीन अतिथियों ने किया। इस कार्यक्रम में डॉ. मनीष सिन्हा, डॉ. राकेश कुमार सिन्हा 'रवि', त्रिपुरारी शरण,दिलीप कुमार सिन्हा, सुनील कुमार सिन्हा, विपिन कुमार सिन्हा, राजीव रंजन सिन्हा, महेश प्रबुद्ध, संजय सिन्हा, पीके चरण, प्रणव वर्मा, विष्णु कुमार सिन्हा, गौरव कुमार सिन्हा, नरेश कुमार सिन्हा, राजेश कुमार सिन्हा, मनोज कुमार सिन्हा कलाकार व पंकज कुमार सहित अन्य चित्रांश शामिल रहे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।