Imamganj Bazar remained closed - गोलीबारी को लेकर दूसरे दिन भी बंद रहा इमामगंज बाजार DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गोलीबारी को लेकर दूसरे दिन भी बंद रहा इमामगंज बाजार

इमामगंज में रंगदारी वसूली के लिए दवा व्यापारी पर की गई गोलीबारी को लेकर सोमवार को लगातार दूसरे दिन भी इमामगंज और रानीगंज की सारी दुकानों बंद रहीं। व्यापारी पर गोली चलाने वाले अपराधियों को गिरफ्तार किए जाने सहित इमामगंज-रानीगंज बाजार में सुरक्षा का भरोसेमंद उपाय किए जाने की मांग को लेकर व्यापारियों ने अनिश्चितकाल तक बाजार बंद रखने का फैसला किया है। इधर दो दिन गुजर जाने के बावजूद पुलिस को इस मामले में अपराधियों के ठिकाने तक पहुंचने में कोई कामयाबी नहीं मिली है। पूर्व सीएम जीतन मांझी ने पीड़ित व्यापारी से की मुलाकातसोमवार की दोपहर यहां पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री और इस क्षेत्र के विधायक जीतन राम मांझी ने इमामगंज टाउन हॉल में पीड़ित व्यापारी और उसके परिजनों के अलावा आंदोलित कारोबारियों से मुलाकात की तथा सुरक्षा का भरोसा दिलाया। स्थानीय दवा विक्रेता संघ के अध्यक्ष देवेंद्र प्रसाद ने बताया कि पूर्व सीएम ने अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए हफ्ते-भर का समय पुलिस को दिया है। साथ ही उन्होंने आमजनों और व्यापारियों की सुरक्षा के लिए भरोसेमंद इंतजाम किए जाने की जरूरत भी बतायी है। इसी बीच जिला दवा विक्रेता संघ के सचिव रवि कुमार गुड्डू ने भी संघ के बाराचट्टी, शेरघाटी, गुरुआ और बांकेबाजार के पदाधिकारियों के साथ इमामगंज का दौरा कर रंगदारी डिमांड की इस घटना पर क्षोभ जताया। रंगदारी डिमांड की नहीं दर्ज की थी एफआइआरइससे पूर्व व्यापारियों ने पूर्व सीएम के समक्ष स्थानीय पुलिस अधिकारियों की नकारा कार्यशैली को लेकर भी गुस्से का इजहार किया है। व्यापारियों का कहना था कि 50 दिन पूर्व अपराधियों ने फोन कर दवा व्यापारी से रंगदारी डिमांड की थी, साथ में स्कूल जाने वाले छोटे बच्चों को अगवा कर लिए जाने की धमकी दी थी। तब से डर-डर कर बच्चों को स्कूल भेजा जा रहा है, मगर पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी रही। लिखित शिकायत के बावजूद एफआइआर तक दर्ज नहीं की गई। छापेमारी में लगी पुलिस की तीन टीमेंइधर गोलीकांड को लेकर इमामगंज में कैम्प कर रहे शेरघाटी के डीएसपी उपेंद्र प्रसाद ने बताया कि सीसीटीवी कैमरे के फुटेज के अलावा हासिल हुए लोकल इनपुट से अपराधियों के गैंग को चिंहित करने की कोशिश की जा रही है। इस दौरान रविवार की रात पुलिस की तीन अलग-अलग टीम ने अपराधियों के सात अलग-अलग संभावित ठिकानों पर छापेमारी की। हालांकि पुलिस की इस कार्रवाई में किसी को पकड़ा नहीं जा सका है। पाठक अवगत हैं कि 22 जुलाई की रात करीब आठ बजे सफेद रंग की एक तेज रफ्तार बाइक पर सवार होकर आए तीन अपराधियों ने इमामगंज बाजार में न्यू भारत मेडिकल हॉल के मालिक राजन कुमार को लक्ष्य कर दो गोली चलाई और भाग गए। इस गोलीबारी में व्यापारी बाल-बाल बच गया था। इमामगंज बाजार के करीब ही पुलिस थाना, डीएसपी कार्यालय और सीआरपी का कैम्प होने के बावजूद रंगदारी डिमांड कर व्यापारी को सबक सिखाने के लिए उसकी दुकान तक पहुंच जाने वाले अपराधियों का दुस्साहस देखकर कारोबारी आतंकित हैं।पुलिस अनुमंडल बनने का नहीं हुआ असरपिछले चार सालों के दौरान इमामगंज विधानसभा क्षेत्र में लुटुआ, छकरबंधा, मैगरा, सलैया और भदवर समेत पांच नए थानों के गठन के साथ इमामगंज थाने को पुलिस अनुमंडल का दर्जा दिया जा चुका है। इसके बावजूद आपराधिक गिरोहों की करतूतों पर लगाम लगाना पुलिस के लिए मुश्किल बना हुआ है। व्यापारी संगठन के स्थानीय प्रतिनिधि देवेंद्र प्रसाद कहते हैं कि आमतौर पर बाइक का इस्तेमाल करने वाले अपराधी आपराधिक करतूतों को अंजाम देकर फुर्र हो जाते हैं। वहीं पुलिस कार्रवाई के नाम पर सिर्फ कागजी खानापूर्ति में लगी रहती है। अपराधियों का खौफ ही है कि सूर्यास्त के बाद इमामगंज, रानीगंज, मैगरा, नारायणपुर, कोठी, डुमरिया आदि बाजारों में अधिकांश दुकानों के शटर डाउन हो जाते हैं। कस्बों-बाजारों में दवाखाने चलाने वाले देहाती डाक्टरों से लेकर डीलर और किसान तक अपराधियों के भय में जीने को मजबूर हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Imamganj Bazar remained closed