DA Image
30 नवंबर, 2020|10:43|IST

अगली स्टोरी

गुरारू में करंट से एक माह में आधा दर्जन किसानों की मौत

default image

बारिश का सीजन शुरू होते ही गुरारू प्रखंड में बिजली का करंट लगने के मामले तेजी के साथ बढ़ने लगे हैं। पिछले एक माह में बिजली करंट लगने की वजह से आधा दर्जन लोगों की मौत हो चुकी है। कई लोग गंभीर रूप से घायल हो चुके हैं। फिर भी बिजली कंपनी के अधिकारी सावधानी बरतने के बजाए लापरवाह बने हुए हैं। जिससे आने वाले दिनों में और भी कई हादसे हो सकते हैं।पानी भरे धान के खेतों में झूल रहे बिजली के तार प्रखंड के देवकली ,डीहा ,मलपा ,कनौसी ,बरोरह आदि पंचायतों के गांवों में बास बल्लो के सहारे किसान बिजली से खेती का पटवन कर रहे हैं। इस दिनों ज्यादातर किसानों के खेतों में धान की फसल लगाने के लिए खेत पानी से लबालब भरे हुए हैं। बास- बल्लो पर बिजली का तार ले जाने के कारण खेतों में करंट फैलने का खतरा बना रहता है। बिजली कंपनी के अधिकारी खेतों में बॉस बल्लो के सहारे ले जा रहे बिजली के तारों को व्यवस्थित कराए जाने की दिशा में कोई पहल नहीं कर रहे हैं। जिससे हमेशा दुर्घटना होने की सम्भावना बनी रहती है। बताते चले कि बिजली करंट से किसानों की मौत के बाद मृतक के परिजनों को मुआवजा भी नहीं मिलता है। बिजली बिभाग के पदाधिकारी किसान के लापरवाही के कारण हुए मौत के हवाला देते हुए मुआवजा देने से बचते हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Half a dozen farmers died in a month due to current in Guraru