Gaya Shradh at Phalgu bank - गयाश्राद्ध: फल्गु तट पर पिंडदान DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गयाश्राद्ध: फल्गु तट पर पिंडदान

default image

भाद्रपद पूर्णिमा यानी शुक्रवार को विष्णुनगरी के फल्गु नदी के तट पर पिंडदान का विधान है। गयाधाम में गदाधर घाट से लेकर उत्तरमानस पितामहेश्वर घाट तक फल्गु तीर्थ माना गया है। वायुपुराण के अनुसार गयाधाम के ब्रह्म सरोवर के सामने से उत्तर मानस वेदी तक फल्गु का महत्व है। इस बीच कहीं भी फल्गु श्राद्ध करने का विधान है। जौ चूर्ण, चावल चूर्ण या दूध मिलाकर बने खीर से पिंड बनाने का विधान है। पिंड का आकार वेल, आंवले के समान हो। कर्मकांड के बाद पिंड को गौ माता को खिला दिया जाता है या बहते हुए जल में प्रवाहित कर देना है। पिंड के निर्माण में फल्गु के जल को पवित्र माना गया है। फल्गु तीर्थ का पूजन गंध पुष्प से करने के बाद नदी के बालू से ही पांच बालूका पिंड बनाकर मंत्रोच्चार द्वारा पूजन करने का विधान है। पिंडदान के बाद गदाधर भगवान विष्ण और विष्णुपद मंदिर के गर्भगृह में विष्णुचरण करना आवश्यक है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Gaya Shradh at Phalgu bank