DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शांति की धरती पर बौद्ध महोत्सव का शानदार आगाज, सीएम ने की  महाबोधि मंदिर में पूजा

 बौद्ध महोत्सव का शुभारम्भ करने बोधगया पहुंचे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

शांति, मोक्ष और ज्ञान की धरती पर शुक्रवार को बोधगया में बौद्ध महोत्सव 2019 का शानदार आगाज हुआ। देश विदेश के कलाकारों ने कालचक्र मैदान में बने भव्य मंच को जीवंत कर दिया। इस मौके पर महाबोधि मंदिर परिसर के साथ-साथ पूरे बोधगया को सजाया गया है। शुक्रवार की शाम सीएम ने द्वीप प्रज्ज्वलित कर इसकी औपचारिक शुरूआत की।

मंच पर सबसे पहले सीएम और अन्य अतिथियों का स्वागत किया गया। इसके बाद श्रीलंका, मायंमार, वियतनाम, कंबोडिया और इंडोनेशिया के कलाकारों ने सीएम का स्मृति चिन्ह प्रदान किया। 

कालचक्र मैदान पहुंचने से पहले सीएम महाबोधि मंदिर गए, सुरक्षा का जायजा लिया और कई निर्देश दिए। सीएम ने महाबोधि मंदिर के भ्रमण के बाद बीटीएमसी के बाहर मे आई हेल्प यू (पूछताछ) काउंटर का शुभारंभ किया। 
कालचक्र मैदान में मंच से सीएम ने स्मारिका तथागत का विमोचन किया। साथ ही गया 365 करोड़ 24 लाख रुपये की लागत से जिले के विभिन्न प्रखंडों की 69 योजनाओं का उद्घाटन व 146 योजनाओं का रिमोट से शिलान्यास किया गया। 

तीन दिवसीय बोद्ध महोत्सव में दस देशों के पर्यटक शामिल हो रहे हैं। साथ ही यहां के कलाकार भी अपनी प्रस्तुति दे रहे हैं। तीन दिनों में ख्याती प्राप्त कलाकार मोहित चौहान, रिचा शर्मा और डॉ पलास की अलग-अलग दिनों में प्रस्तुति होगी।

ग्राम श्री मेला में लोगों की भीड़
उद्घाटन सत्र से पहले ही कालचक्र मैदान में लगे ग्राम श्री मेला में लोगों की भीड़ पहुंचने लगी। देश के विभन्न राज्यों से आए लोगों की कलाकारी देखकर लोग आश्चर्य करने पर विवश हो रहे हैं। इस बार यहां 64 स्टॉल बनाए गए हैं। उनमे अलग-अलग राज्यों की विशेषता दर्शायी गई है। इसके अलावे सरकार के विभिन्न योजनाओं की जानकारी देने के लिए 33 स्टॉल बनाए गए हैं। साथ ही फूड प्लाजा के 15 काउंटर लगाए गए हैं। इसमें विभिन्न प्रकार के व्यजनों की प्रस्तुति की गई है। ग्राम श्री मेला में खरीदारी के साथ-साथ लोगों को देश के विभिन्न क्षेत्रों की जानकारी भी मिल रही है। 

मंच पर महाबोधि मंदिर की आकृति 
महोत्सव के दौरान कालचक्र मैदान में बनाए गए मंच की सबों ने खूब तारीफ की। मंच पर महाबोधि मंदिर की आकृति उकेरी गई है। बीच में भगवान बुद्घ की मूर्ति लगायी गई है। 

बैँठने को लेकर फिर हुआ विवाद
कालचक्र मैदान में बैठने को लेकर एक बार फिर विवाद हुआ। हालांकि सीएम के आने से पहले अधिकारियों ने नेताओं को समझा बुझाकर शांत किया। दरअसल कुछ नेताओं को अधिकारियों ने एक जगह से दूसरे स्थान पर बैठने को कहा था। पिछले वर्ष भी कुछ इसी तरह की समस्या आयी थी।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Bodh Festival statrs with pomp and gaiety