ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार गयाएडीएम ने सुनी जमीनी विवाद से जुड़े लोगों की समस्याएं

एडीएम ने सुनी जमीनी विवाद से जुड़े लोगों की समस्याएं

अपर समाहर्ता (एडीएम) मनोज कुमार गुरुवार को आमस ब्लॉक पहुंच जमीन विवाद से जुड़ी लोगों की समस्याएं सुनी। शेरघाटी एसडीओ अनिल रमन के साथ करीब तीन घंटे तक...

एडीएम ने सुनी जमीनी विवाद से जुड़े लोगों की समस्याएं
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,गयाThu, 23 Jun 2022 04:50 PM

अपर समाहर्ता (एडीएम) मनोज कुमार गुरुवार को आमस ब्लॉक पहुंच जमीन विवाद से जुड़ी लोगों की समस्याएं सुनी। शेरघाटी एसडीओ अनिल रमन के साथ करीब तीन घंटे तक यहां रूके और लोगों की परेशानी जानें। इसके बाद उन्होंने समस्याओं का निपटारा करने का निर्देश सीओ मृत्युंजय कुमार को दिया। झरी पंचायत के कुशा टोला निमियाटांड़ के दर्जनों महादलितों ने टोले तक सड़क नहीं बने होने की शिकायत की। कहा गांव के कुछ लोग सरकारी जमीन पर कब्जा जमाये हुये हैं। जबकि उनके पास रहने तक को जगह नहीं है। इस पर एडीएम ने सीओ को टोले में कैंप लगा कर इनकी शिकायत हल करने का निर्देश दिया। बता दें कि अंचल कर्मियों पर मनमानी का आरोप लगा तीन दिन पूर्व एलपीसी को ले कुछ रैयतों ने अंचल में हंगामा किया था।

एडीएम ने सुनी जमीन विवाद से जुड़े लोगों की समस्याएं

आमस पंचायत के मुखिया मनोज यादव, सांव के खैराखूर्द निवासी यदू पाल, रामप्रवेश पाल, प्रमिला देवी, आदित पाल, संतोष पाल, विजय पाल, प्रमोद लाल, परशुराम यादव, अर्जुन यादव, चंडीस्थान के जितू वर्णवाल, आमस के लखनदेव यादव, लेंबुआ बहेरा के वृजु चंद्रवंशी आदि रैयतों ने बताया कि जीटी रोड चौड़ीकरण में उनकी जमीन जा रही है। मुआवजे के लिए एलपीसी की सख्त जरूरत है। जिलाधिकारी के निर्देश पर महीने भर पूर्व पंचायतों में लगाये गये शिविर में आवेदन भी दिया था। किन्तु अब तक एलपीसी बन कर नहीं मिला है। संबंधित राजस्व कर्मी उनके खाता-प्लॉट को गलत बता कर आज-कल कर रहे हैं। अंचल का चक्कर लगा कर थक चुका हूं। एलपीसी बन कर नहीं मिलने से उन्हें मुआवजे की राशि मिलने में देर हो रही है। जबकि रोड निर्माण का काम भी शुरू हो गया है। मौके पर बीडीओ डॉ. एके आर्य, प्रखंड प्रमुख लड्डन खां, दिपू सिंह, जदयू अध्यक्ष रामवृक्ष प्रसाद, एनएएचआई कर्मी अरविंद कुमार, धनंजय सिंह, गोपाल सिंह, गुड्डू खां, आविद हुसैन, सरपंच संघ अध्यक्ष रामाधार सिंह आदि थे।

epaper