ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार गयाथाना में रजिस्टर रख दिया हो गई बुजुर्गों की देखरेख की खानापूर्ति

थाना में रजिस्टर रख दिया हो गई बुजुर्गों की देखरेख की खानापूर्ति

थाना में रजिस्टर रख दिया हो गई बुजुर्गों की देखरेख की खानापूर्ति बुजुर्गों की...

थाना में रजिस्टर रख दिया हो गई बुजुर्गों की देखरेख की खानापूर्ति
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,गयाFri, 30 Sep 2022 09:40 PM
ऐप पर पढ़ें

थाना में रजिस्टर रख दिया हो गई बुजुर्गों की देखरेख की खानापूर्ति

बुजुर्गों की देखरेख को थाने में रजिस्टर रख खानापूर्ति

रजिस्टर में बुजुर्गों की संख्या तक अंकित नहीं

एसएसपी के निर्देश पर रजिस्टर तो बना लेकिन कोई रिकॉर्ड नहीं

किसी भी थाना में नहीं उस क्षेत्र में रहने वालों की सूची

अंतरराष्ट्रीय बुर्जुग दिवस आज

गया। निज संवाददाता

बुजुर्गों को सुविधा और सुरक्षा के लिए तमाम तरह के दावे होते हैं। लेकिन धरातल पर दावे महज खानापूर्ति ही साबित होते हैं। एसएसपी के निर्देश पर सभी थानों में बुजुर्गों से संबंधित एक रजिस्टर रखने और उनकी जानकारी अंकित करने को कहा गया था। लेकिन, थानों में सिर्फ रजिस्टर रखकर इसकी खानापूर्ति कर दी गई। थाना क्षेत्र में कितने बुजुर्ग ऐसे है जो अकेले रहते हैं। ऐसी कोई सूची पुलिस के पास मौजूद नहीं। सिविल लाइंस थानाध्यक्ष बताते हैं कि ऐसे बुजुर्गों का नाम अंकित कर उसे सदर एसडीओ या संबंधित अधिकारी के पास भेजना है। लेकिन, यहां इस तरह कोई बुजुर्ग शायद ही कभी आते है। इस कारण यहां रिकॉड नहीं है।

होती है काउंसलिंग: एसएसपी

एसएसपी हरप्रीत कौर ने बताया कि सभी थाना को रजिस्टर बनाने का निर्देश दिया गया है। इसके साथ ही जब कभी इस तरह के बुजुर्ग शिकायत लेकर आते है कि उनके परिवार वाले उनके साथ अच्छा व्यवहार नहीं कर रहे तो परिजनों को बुलाकर उनकी काउंसलिंग की जाती है।

अकेले रह रहे बुजुर्ग पुलिस को करे सुचित

एसएसपी कहतीं हैं कि जिस दंपती के बेटे या घर के अन्य सदस्य कहीं बाहर चले जाते है। ऐसे बुजुर्ग या उनके बेटे संबंधित थाना की पुलिस को जरूर सुचित करें। जिससे गश्ती पुलिस बल उनके घर जाकर उनका हाल चाल पूछ सके।

हमेशा बना रहता है डर

डेल्हा थाना क्षेत्र के रहने वाले एक बुजुर्ग दम्पति ने बताया कि उनके दो बेटे है। दोनों बाहर रहते हैं। पति को बी है। वही हमें भी मधुमेह व बीपी की बीमारी है। घर में अकेले रहने पर भय रहता था। इसलिए कुछ दिन पहले एक किरायेदार को रख लिये जिससे मुश्किल वक्त में वह काम आ सके।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
epaper