DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  दरभंगा  ›  शिक्षण व्यवस्था की बेहतरी पर चल रहा काम
दरभंगा

शिक्षण व्यवस्था की बेहतरी पर चल रहा काम

हिन्दुस्तान टीम,दरभंगाPublished By: Newswrap
Thu, 17 Jun 2021 06:30 PM


शिक्षण व्यवस्था की बेहतरी पर चल रहा काम

दरभंगा। एक प्रतिनिधि

बिहार के सरकारी विद्यालयों के शिक्षकों में गुणवत्तापूर्ण शिक्षण व विषय वस्तु संबंधी ज्ञान की प्रखरता के लिए ‘द बिहार टीचर्स-हिस्ट्री मेकर्स समूह द्वारा देशभर के विषय विशेषज्ञ व नामचीन विद्वतजनों द्वारा नि:शुल्क शिक्षण कौशल, बच्चों के बीच पहुंच और विषय प्रस्तुतीकरण को लेकर लगातार प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इस बाबत टीबीटी के मीडिया प्रभारी डॉ. कुमार मदन मोहन ने बताया कि यह समूह शिक्षा महाभारत की शुरुआत कर चुका है जिसका एकमात्र उद्देश्य शिक्षण व्यवस्था की बेहतरी और एक-एक बच्चे तक गुणवत्तापूर्ण शिक्षा की पहुंच है। इसमें पूरे राज्यभर से बहुत सारे शिक्षक लगे हुए हैं। इसी कड़ी में डॉ. राकेश कुमार, प्राचार्य, सीटीई, भागलपुर एवं डीन, फैकल्टी ऑफ एजुकेशन, तिलकामांझी विश्वविद्यालय ने प्रशिक्षण कौशल की गुणवत्ता पर दो घंटे से अधिक का सेशन लिया। प्रो. उषा पांडे, डिपार्टमेंट ऑफ एलिमेंट्री एजुकेशन व इंचार्ज, सेल फॉर नेशनल सेंटर फॉर लिटरेसी, एनसीईआरटी, नई दिल्ली ने भाषा शिक्षण से संबंधित महत्वपूर्ण विषय वस्तु की प्रस्तुति की साथ ही शिक्षकों के जिज्ञासा की भी तृप्ति की। डॉ. शंकर कुमार, एसोसिएट प्रोफेसर, डिपार्टमेंट ऑफ फिजिक्स, पटना यूनिवर्सिटी व फाउंडर प्राचार्य, सिमुलतला आवासीय विद्यालय ने विज्ञान के विषय वस्तु प्रस्तुतीकरण व विद्यालय प्रबंधन पर शिक्षकों को जागरूक किया। इसी कड़ी को बढ़ाते हुए गुरुवार को प्रो. डॉ. एमपी त्रिवेदी, पूर्व विभागाध्यक्ष, वनस्पति विज्ञान, पटना विश्वविद्यालय ने शिक्षकों को और भी अधिक प्रखर बनाने को महत्वपूर्ण सुझाव दिए। कार्यक्रम के संचालन में टीम टीबीटी के राज्य समन्वयक मनोज त्रिपाठी, मीरा कुमारी, सृष्टि मुखर्जी, कुमार गौरव, कुमारी गुड्डी, मेरी आडलिन, राजन कुमार सिंह, बलवंत कुमार व सभी जिला के मोटीवेटर्स योगदान कर रहे हैं। राज्य मीडिया प्रभारी डॉ. मोहन ने आधिकारिक रूप से यह जानकारी दी कि यह कार्यक्रम लगातार चलता रहेगा और देश की नामचीन शख्सियत को इस कार्यक्रम से जोड़ा जाएगा जिससे बिहार में एक शैक्षिक क्रांति आगाज लक्षित है। इसका पूरा-पूरा लाभ बिहार के सरकारी विद्यालयों के बच्चों को प्रत्यक्ष रूप से मिलेगा।

संबंधित खबरें