DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › दरभंगा › दरभंगा जिले में 30 से शुरू होगा टीकाकरण अभियान, महाअभियान दो को
दरभंगा

दरभंगा जिले में 30 से शुरू होगा टीकाकरण अभियान, महाअभियान दो को

हिन्दुस्तान टीम,दरभंगाPublished By: Newswrap
Tue, 28 Sep 2021 04:31 AM
दरभंगा जिले में 30 से शुरू होगा टीकाकरण अभियान, महाअभियान दो को

दरभंगा। समाहरणालय अवस्थित अंबेडकर सभागार में सोमवार को डीएम डॉ. त्यागराजन एसएम की अध्यक्षता में 30 सितंबर व एक अक्टूबर को टीकाकरण अभियान एवं दो अक्टूबर को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती के अवसर पर आयोजित महा टीकाकरण अभियान की सफलता को लेकर स्वास्थ्य विभाग के पदाधिकारियों, सभी बीडीओ व प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारियों के साथ बैठक की गई। डीएम ने कहा कि दरभंगा में 30 सितंबर को 50 हजार एवं एक अक्टूबर को 50 हजार लोगों का टीकाकरण कराया जाना है। दो अक्टूबर को एक लाख 75 हजार लोगों का टीकाकरण कराया जाना है। उन्होंने कहा कि दरभंगा के सात लाख लोगों का टीकाकरण किया जाना शेष बच गया है। इसलिए उन्हीं स्थलों पर टीकाकरण केंद्र बनाया जाए जहां अधिक से अधिक लोग बचे हुए हैं ताकि उपलब्ध कराए जा रहे टीका का शत-प्रतिशत उपभोग हो सके। इसके लिए सभी बीडीओ को दूसरे डोज का देय सूची देख लेने को कहा गया। उन्होंने सभी बीडीओ को अपने प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी एवं प्रखंड स्वास्थ्य प्रबंधक के साथ बैठक कर इसके लिए व्यापक कार्ययोजना बना लेने तथा टीकाकरण केंद्र चिन्हित कर लेने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि महा अभियान के लिए प्रत्येक टीकाकरण केंद्र पर दो-दो डाटा इंट्री ऑपरेटर रखे जाएंगे एवं डटा की प्रविष्टि उसी समय (लाइव) की जाएगी। यदि ऐसा नहीं किया गया तो संबंधित व्यक्तियों के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि डाटा इंट्री की निगरानी व अनुश्रवण जिला स्तर पर आईटी सेल द्वारा की जाएगी। उन्होंने कहा कि विगत टीकाकरण अभियान के दौरान पाया गया है कि कई केंद्रों पर कर्मियों के लेट से पहुंचने के कारण टीकाकरण विलंब से शुरू हुआ। इसके लिए संबंधित प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी एवं प्रखंड स्वास्थ्य प्रबंधक से स्पष्टीकरण की मांग की गई है और उन पर कार्रवाई की जा रही है। इस बार के अभियान में यदि कहीं भी टीकाकरण विलंब से प्रारंभ होने की सूचना मिलेगी तो संबंधित पदाधिकारियों व कर्मियों के विरुद्ध तत्काल कार्रवाई की जाएगी। हर हाल में सुबह सात बजे से टीकाकरण शुरू हो जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि इसके साथ ही कहीं भी कोविड टेस्टिंग में कमी नहीं होनी चाहिए। प्रत्येक दिन सात हजार कोविड टेस्टिंग हो रही है और इसमें कहीं से भी थोड़ी सी भी अनियमितता की शिकायत नहीं मिलनी चाहिए। यदि कहीं से शिकायत मिलेगी तो संबंधित कर्मी के विरुद्ध कठोर कार्रवाई की जाएगी। टेस्टिंग में यदि कोई पॉजिटिव मिलता है तो उस पर नजर रखना प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी एवं प्रखंड स्वास्थ्य प्रबंधक की जिम्मेवारी है। वहां कंटेनमेंट जोन बनाया जाए एवं उस व्यक्ति की लगातार निगरानी की जाए। उन्होंने सिविल सर्जन को टीकाकरण अभियान के लिए जिला स्तर पर एक नियंत्रण कक्ष कार्यरत रखने का निर्देश दिया। बैठक में डीडीसी तनय सुल्तानिया, उप निदेशक जनसंपर्क नागेंद्र कुमार गुप्ता, सिविल सर्जन डॉ. अनिल कुमार, जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. अमरेंद्र कुमार मिश्र, डीपीएम हेल्थ विशाल कुमार, डीपीएम जीविका मुकेश तिवारी सुधांशु, केयर इंडिया की जिला समन्वयक श्रद्धा झा, डब्ल्यूएचओ के डॉ. वाशव राज, यूनिसेफ के ओंकार चंद्र एवं शशिकांत सिंह एवं संबंधित पदाधिकारी उपस्थित थे।

संबंधित खबरें