The second merit list will be released by the end of the week - सप्ताह के अंत तक जारी होगी दूसरी मेधा सूची DA Image
22 नवंबर, 2019|5:17|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सप्ताह के अंत तक जारी होगी दूसरी मेधा सूची

ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय के 72 अंगीभूत एवं संबद्ध कॉलेजों में स्नातक प्रथम खंड (2019-22) सत्र में नामांकन के लिए दूसरी मेधा सूची के इसी सप्ताह में जारी होने की संभावना है। पहली सूची के आधार पर 27 जून से 10 जुलाई तक नामांकन हुआ। प्राप्त जानकारी के अनुसार पहले चरण में करीब 25 प्रतिशत छात्र-छात्राओं का नामांकन हो चुका है। विश्वविद्यालय के कॉलेजों में स्नातक स्तर के नामांकन के लिए राज्य सरकार से कुल दो लाख 74 हजार सीट स्वीकृत हैं। वर्तमान सत्र में नामांकन के लिए छात्र-छात्राओं से एक लाख 76 हजार 345 ऑनलाइन आवेदन प्राप्त हुए थे। मेधा सूची में छोटी-मोटी त्रुटियों में आवश्यकतानुसार कागजात के आधार पर सुधार के लिए प्रधानाचार्यों को अधिकृत कर दिया गया था। इससे छात्रों को विश्वविद्यालय का चक्कर नहीं लगाना पड़ा और उनकी समस्याओं का निदान कॉलेज में ही कर दिया गया। इससे वे परेशानी से बच गये और विश्वविद्यालय भी पूर्व की भांति अशांत होने से बच गया। पहले चरण का नामांकन शांतिपूर्ण वातावरण में संपन्न हो गया। मेधा सूची जारी करने के साथ ही सूचना जारी कर दी गयी थी कि निर्धारित तिथि के बाद वह सूची अप्रभावी समझा जायेगा। अर्थात उसके बाद इस सूची के आधारित पर नामांकन नहीं होगा। पहले चरण में करीब 45 हजार छात्र-छात्राओं का नामांकन हो सका है। अब सबकी नजर दूसरी मेध सूची के जारी होने पर है।

इधर, विश्वविद्यालय के छात्र कल्याण अध्यक्ष प्रो. रतन कुमार चौधरी ने प्रधानाचार्यों को पत्र लिखकर छात्र-छात्राओं के नामांकन संबंधी कई निर्देश दिया थे। इसके अनुसार मेधा सूची में कन्फर्म नाम वाले छात्र-छात्राओं के ही नामांकन करने को कहा गया। नामांकन से पहले छात्रों के कागजात की जांच करना अनिवार्य होगा। कॉलेज प्रशासन छात्र-छात्राओं द्वारा भरे गये नामांकन प्रपत्र की जांच करेंगे और उसमें हुई त्रुटि का सुधार करने के बाद ही नामांकन करेंगे। विशेष रूप से छात्र का नाम, उसके पिता का नाम, जन्म तिथि, लिंग इत्यादि की जांच उपलब्ध साक्ष्य के आधार पर करना आवश्यक कर दिया गया था। मेधा सूची में प्रतिष्ठा विषय को छोड़ सबसीडियरी, कंपोजिशन आदि में जरूरत के मुताबिक प्रधानाचार्य अपने स्तर से सुधार कर नामांकन करने को अधिकृत थे। नामांकित छात्र-छात्राओं का अपडेटिंग प्रतिदिन शाम में विश्वविद्यालय द्वारा दिये गये डैस बोर्ड पर करने का निर्देश था ताकि विश्वविद्यालय प्रशासन नामांकन के संबंध में अद्यतन रह सके। छात्रों को नामांकन के समय जमा किये जाने वाले कागजात में नामांकन प्रपत्र, महाविद्यालय परित्याग प्रमाण पत्र की मूल प्रति, प्रवेश पत्र की छायाप्रति, पासपोर्ट साइज फोटो की तीन प्रति, जहां लागू होगा वहां जाति प्रमाणपत्र, आय प्रमाणपत्र, आधार कार्ड की छायाप्रति, प्रवजन प्रमाणपत्र की मूल प्रति शामिल हैं।

विश्वविद्यालय की ओर से स्नातक प्रथम खंड में नामांकन के लिए केंद्रित रूप से ऑनलाइन आवेदन मांगे गए थे। जानकारी के अनुसार कॉलेजों में कुल दो लाख 74 हजार सीट सरकार से स्वीकृत है। इसके विरुद्ध कुल एक लाख 76 हजार 345 ऑनलाइन आवेदन प्राप्त हुए। विश्वविद्यालय प्रशासन ने छात्रों को नामांकन के लिए सात विकल्प दिये थे। इसके बाद मेधा, छात्रों के दिये विकल्प, 100 प्वाइंट आरक्षण, आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए राज्य सरकार के आदेश के अनुरूप 10 प्रतिशत आरक्षण को ध्यान में रखते हुए मेधा सूची तैयार की गयी है। मेधा सूची में गड़बड़ी को लेकर भी छात्र-छात्राओं से शिकायत मिल रही है। कुछ छात्रों का कहना है कि कम अंक वाले का नाम कन्फर्म सूची में है जबाव अधिक अंक वालों के नाम प्रतीक्षा सूची में है। नाम, विषय आदि को लेकर भी शिकायत है। साथ ही मेधा सूची के साथ प्रतीक्षा सूची डाल देने से भी छात्र-छात्राओं को समझने में थोड़ी कठिनाई हुई। वैसे, अब सारा भार प्रधानाचार्यों पर है कि छात्रों की कठिनाई को दूर कर मेधा सूची में अपेक्षित सुधार कर देंगे। नामांकन काउंटर पर छात्र-छात्राओं की भीड़ और संभावित अव्यवस्था के मद्देनजर सीएम कॉलेज सहित कुछ महत्वपूर्ण कॉलेजों में छात्र एवं छात्राओं के लिए काउंटर अलग कर दिये गये थे जिससे किसी प्रकार की अव्यवस्था की सूचना कहीं से नहीं आयी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:The second merit list will be released by the end of the week