DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कड़ी मेहनत व दृढ़ इच्छाशक्ति से सफलता निश्चित : सुमित

कड़ी मेहनता एवं दृढ़ इच्छाशक्ति से सफलता निश्चित मिलेगी। इसी विश्वास से युवा पीढ़ी लक्ष्य निर्धारित कर तैयारी करें। संबंधित विषय पर अधिकाधिक संदर्भित पुस्तकें इसमें अधिक सहायक होता है। यह कहना है यूपीएससी की परीक्षा में 111वें रैंक में सफल होनेवाले सुमित कुमार झा का। सुमित ने बताया कि यूपीएस की तैयारी के लिए उसने आप्शन विषय भौतिकी रखा था। सफलता की थी पूरी उम्मीद वित्त रहित कालेज आरबी जालान बेला कॉलेज में वाणिज्य के प्राध्यापक प्रो. सुनील कुमार झा एवं गृहिणी बबीता झा के पुत्र सुमित ने कक्षा 6 तक स्थानीय स्कूल में पढ़ाई की। कक्षा 7 से 10वीं की पढ़ाई सैनिक स्कूल तिलैया और 12वीं की परीक्षा वर्ष 2009 में रोज पब्लिक स्कल से की। उसी वर्ष पहले प्रयास में ही आईआईटी प्रवेश परीक्षा में सफलता मिलने पर आईआईटी रूढ़की में नामांकन कराया। सुमित ने बताया कि इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी कर वह नोएडा स्थित जेपी ग्रूप में करीब एक वर्ष काम किया। इसके बाद नौकरी छोड़ दिल्ली में ही यूपीएससी की तैयारी करने लगा। उन्होंने बताया कि 10-12 घंटे नियमित अध्ययन को लक्ष्य बना उसने तैयारी की। लिखित परीक्षा एवं मौखिकी अच्छा होने के बाद उसे सफलता की पूरी उम्मीद थी। परिजनों के बीच जाने की खुशी में रातभर नहीं सोया सुमित ने बताया कि आशातीत सफलता की खुशी को अपने परिजनों के बीच रहने की कसक से रात भर सो नहीं सका। रात में ही पटना के लिए फर्स्ट फ्लाइट का टिकट बुक कराया और गुरुवार की सुबह दिल्ली से चलकर 7.40 में पटना और दोपहर 12 बजे घर आ गया। 31 मई की रात 8 बजे से सुमित की इस बड़ी उपलब्धि पर परिवार के सभी बड़े-छोटे उनकी अनुपस्थिति में जो खुशी मना रहे थे, अचानक उस ‘नायक को अपने बीच में देख परिजनों का उल्लास और बढ़ गया। सुमित अपने सात माह के भतीजा आदित्य को गले से लगाये सभी परिजनों से आशीर्वाद ले रहा था। उसने बताया कि 4 दिनों तक यहीं हूं। 5 जून को दिल्ली चला जाऊंगा। फोटो: 01 जून दार विमल-1 चित्र परिचय: सुमित की दादी, उसके पिता, सुमित, बड़ी बहन एवं बड़े चाचा, पीछे चाची, मां, भाभी एवं बहन

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Success with hard work and determination: Sumit