ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहार दरभंगाजातीय जनगणना का प्रकाशन पंचायत स्तर पर हो जारी

जातीय जनगणना का प्रकाशन पंचायत स्तर पर हो जारी

दरभंगा। राज्य में हुए जातीय जनगणना में वैश्य समाज के सभी 56 उप जातियों की

जातीय जनगणना का प्रकाशन पंचायत स्तर पर हो जारी
हिन्दुस्तान टीम,दरभंगाFri, 01 Dec 2023 01:30 AM
ऐप पर पढ़ें

दरभंगा। राज्य में हुए जातीय जनगणना में वैश्य समाज के सभी 56 उप जातियों की संख्या को घटाकर प्रकाशित किए जाने के विरूद्ध पांच सूत्री मांगों को लेकर अखिल भारतीय वैश्य महासम्मेलन की ओर से गुरुवार को पोलो मैदान में प्रमंडल स्तरीय धरना का आयोजन किया गया। अध्यक्षता जिलाध्यक्ष संगीत साह ने की।
इस अवसर पर प्रमंडलीय आयुक्त को पांच सूत्री मांग पत्र सौंेपा गया जिसमें त्रृटिपूर्ण प्रकाशन को सुधार करने, वैश्य समाज के सभी 56 उप जातियों का एकीकृत प्रकाशन, दोषी पदाधिकारी एवं नेताओं के विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज करने, जनगणना से वंचित परिवारों के लिए प्रखंडवार टॉंल फ्री नंबर जारी करने तथा जातीय जनगणना का प्रकाशन पंचायत व वार्ड स्तर पर जारी करने की मांग की गई। प्रदेश अध्यक्ष सह विधायक पवन जायसवाल ने कहा कि जिस तरह से बिहार में जातीय जनगणना रिपोर्ट जारी होने के बाद अधिकांश जातियों ने अपनी संख्या को लेकर सवाल खड़ा किया है, उससे स्पष्ट है कि राज्य सरकार के विरोधी मानसिकता वाली जातियों की संख्या में अप्रत्याशित कमी की गई है।

विधायक रामचन्द्र साह ने कहा कि महागठबंधन की सरकार ने बिहार में वैश्य समाज के सभी 56 उप जातियों की राजनीतिक/सामाजिक भागीदारी को साजिश के तहत घटा कर 22 से 18 प्रतिशत पर ला दिया है। विधायक संजय सरावगी ने कहा कि राज्य सरकार वैश्य समाज को मजबूर समझ अपने राजनीतिक लाभ के उद्देश्य से जनसंख्या को घटाकर प्रकाशित किया है। एमएलसी तरुण चौधरी, पूर्व एमएलसी सुमन महासेठ, महिला मोर्चा की प्रदेश अध्यक्ष धर्मशीला गुप्ता आदि ने भी अपने विचार रखे। संचालन डॉ. पवन चौधरी ने किया। धरना में अर्जुन गुप्ता, अवध किशोर प्रसाद, सोनी पूर्वे, प्रदीप शाह कानू, राज नारायण चौधरी, लक्ष्मी कुमारी आदि उपस्थित थे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें