DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  दरभंगा  ›  ब्लैक फंगस की एक और संदिग्ध मरीज पटना रेफर

दरभंगा ब्लैक फंगस की एक और संदिग्ध मरीज पटना रेफर

हिन्दुस्तान टीम,दरभंगाPublished By: Newswrap
Tue, 25 May 2021 03:51 AM


ब्लैक फंगस की एक और संदिग्ध मरीज पटना रेफर

दरभंगा | नगर प्रतिनिधि

ब्लैक फंगस का एक और संदिग्ध मामला सोमवार को सामने आया। मधुबनी जिले के बासोपट्टी प्रखंड क्षेत्र से परिजन आलिया देवी नाम की महिला को इलाज के लिए लेकर डीएमसीएच के आपातकालीन विभाग पहुंचे। महिला में ब्लैक फंगस के लक्षण देख डॉक्टरों ने उसे पटना स्थित आइजीआइएमएस रेफर कर दिया। दो दिनों में ब्लैक फंगस के दो संदिग्ध मरीजों को पटना रेफर किया जा चुका है। महामारी घोषित की जा चुकी इस बीमारी का इलाज अभी तक डीएमसीएच में शुरू नहीं हो पाया है। मरीज को लेकर परिजन दोपहर करीब साढ़े 12 बजे डीएमसीएच पहुंचे थे। आपातकालीन विभाग में पहले मेडिसिन विभाग के चिकित्सकों ने महिला का परीक्षण किया। महिला ने बताया कि उसकी आंखों की रोशनी लगभग जा चुकी है। महिला में ब्लैक फंगस के कई लक्षण देख ईएनटी और आंख विभाग के चिकित्सकों को सूचना दी गयी। चिकित्सकों ने महिला की जांच करने के बाद उसे पटना रेफर कर दिया। रविवार को बरौनी से भी ब्लैक फंगस की संदिग्ध मरीज डीएमसीएच पहुंची थी। उसे भी पटना रेफर कर दिया गया था। मधुबनी से आई महिला के पुत्र ने बताया कि वह कई वर्षों से गठिया से पीड़ित थी। उनका इलाज गांव व अगल-बगल के डॉक्टर कर रहे थे। उन्हें कई बार डेक्सोना का इंजेक्शन दिया जा चुका है। हालांकि उसने बताया कि वह कोरोना से पीड़ित नहीं हुई थीं। गौरतलब है कि सरकार की ओर से डीएमसीएच में ब्लैक फंगस के मरीजों के इलाज के लिए समुचित व्यवस्था करने का निर्देश दिया गया है। इलाज के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से एम्फोटेरेसिन-बी इंजेक्शन के दो सौ वॉयल भी उपलब्ध करा दिए गए हैं। डीएमसीएच अधीक्षक डॉ. मणिभूषण शर्मा ने बताया कि ब्लैक फंगस के मरीजों के इलाज के लिए एचडीयू-बी को चिह्नित किया गया है। वहां 25 बेड का वार्ड बनाया जा रहा है। जल्द ही वार्ड तैयार कर मरीजों का दाखिला शुरू कर दिया जाएगा।

संबंधित खबरें