Keeping pace with the environment is the best use of knowledge - वातावरण से तालमेल बनाए रखना ही ज्ञान का सदुपयोग DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वातावरण से तालमेल बनाए रखना ही ज्ञान का सदुपयोग

default image

शिक्षा-प्राप्ति का उद्देश्य मात्र जानकारी हासिल कर जीविकोपार्जन करना ही नहीं है, बल्कि प्राप्त ज्ञान का समाजहित में सकारात्मक उपयोग आवश्यक है। प्रयोग के बिना ज्ञान अधूरा है। समाज के दूसरे व्यक्तियों के साथ तारतम्यता बैठाना तथा वातावरण से तालमेल बनाए रखना ही ज्ञान का सदुपयोग है। हमारी ज्यादा जिम्मेदारी है कि हम सब अपने समाज और राष्ट्र को निरंतर आगे बढ़ाएं।

ये बातें लनामि विवि के कुलपति प्रो. सुरेंद्र कुमार सिंह ने कही। वे गुरुवार को सीएम कॉलेज के कर्पूरी-ललित भवन में स्नातक प्रथम खंड तथा स्नातकोत्तर प्रथम सेमेस्टर के छात्र-छात्राओं के लिए आयोजित इंडक्शन प्रोग्राम का उद्घाटन करने के बाद विचार व्यक्त कर रहे थे। प्रधानाचार्य डॉ. मुश्ताक अहमद ने कहा कि आज का दिन ऐतिहासिक है, क्योंकि आज सीएम कॉलेज में एक नया अध्याय जुड़ रहा है। वर्तमान कुलपति के नेतृत्व में विश्वविद्यालय कि न सिर्फ तस्वीर, बल्कि तकदीर भी बदल रही है। परीक्षाओं का नियमितीकरण हो, दीक्षांत समारोह का आयोजन हो, नैक मूल्यांकन हो या इंडक्शन प्रोग्राम हो, सबमें मिथिला विश्वविद्यालय प्रदेश में आगे आ रहा है। प्रधानाचार्य ने कुलपति को आश्वस्त किया कि हमारा महाविद्यालय विश्वविद्यालय,सरकार तथा यूजीसी के सभी निर्देशों को पूरा करने में हमेशा आगे रहेगा। उन्होंने कहा कि छात्र नियमित रूप से समय पर वर्ग में उपस्थित हों तो वे न सिर्फ डिग्री प्राप्त करेंगे, बल्कि व्यावहारिक ज्ञान के साथ समाज से भी जुड़ेंगे।

इस अवसर पर कुलपति ने हाल ही में अवकाश प्राप्त महाविद्यालय के दो शिक्षकों डॉ. मो. मोहसीन, समाजशास्त्र विभाग तथा डॉ. विजय कुमार झा, गणित विभाग को सम्मानित किया। प्रधानाचार्य ने पाग, चादर तथा शिशु पौधा प्रदान कर कुलपति का स्वागत किया। कार्यक्रम में सभी शिक्षक, शिक्षकेतर कर्मी तथा छात्र-छात्राएं उपस्थित थे। डॉ. आरएन चौरसिया के निर्देश पर एनएसएस के 20 स्वयंसेवक तथा एनसीसी के 20 कैडेट मों असलम,शालू कुमारी तथा संतोष कुमार के नेतृत्व में अपना सराहनीय योगदान किया। कार्यक्रम का संचालन प्रो. इंदिरा झा ने किया। अतिथियों का स्वागत शिक्षक संघ के अध्यक्ष डॉ. अमरेंद्र शर्मा ने तथा धन्यवाद ज्ञापन सचिव प्रो. नारायण झा ने किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Keeping pace with the environment is the best use of knowledge