Grants to colleges who do not enter data entry will be closed - डाटा इंट्री नहीं करने वाले कॉलेजों का अनुदान होगा बंद DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डाटा इंट्री नहीं करने वाले कॉलेजों का अनुदान होगा बंद

डाटा इंट्री नहीं करने वाले कॉलेजों का अनुदान होगा बंद

अखिल भारतीय उच्चत्तर शिक्षा सर्वेक्षण (ए आई एस एच ई) , मानव संसाधन विकास विभाग, उच्च शिक्षा, नई दिल्ली ने महाविद्यालय द्वारा ऑनलाइन डाटा एंट्री करने हेतु समय निर्धारित किया है, जिसकी अवधि समाप्त होनेवाली है। नोडल अधिकारी डॉ एनके अग्रवाल ने बताया कि ये डाटा 2018-19 का होना है। ज्ञातब्य हो कि डी सी एफ प्रथम जो विश्वविद्यालय द्वारा भरा जाता है उसे ससमय भरा जा चुका है। पारंपरिक विश्वविद्यालय में ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय राज्य का दूसरा विश्वविद्यालय है जिसने डाटा एंट्री का काम कर लिया है। राज्य सरकार द्वारा अनेको पत्र भेजकर डाटा एंट्री करने हेतु बार- बार स्मारित किया जा रहा है। राजभवन पटना में नियुक्त श्री विजय कुमार , संयुक्त सचिव के द्वारा पत्रांक बी एस यू 49/18-657/जी एस (1) 22 फरवरी 19 के द्वारा सभी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों के नाम एक पत्र जारी किया है। जिसमे डाटा एंट्री ससमय करा लेने का आग्रह किया गया है। डाटा एंट्री नहीं करने पर महाविद्यालय को अनुदान भी नही मिलेगा और नैक भी नही करा सकेंगे। 23.02.2019 के पूर्वाह्न 9 बजे तक डाटा नहीं भरनेवाले अंगीभूत महाविद्यालय की संख्या 09 है। अंगीभूत 34 महाविद्यालय ने डाटा इंट्री का काम कर लिया है। सम्बद्ध महाविद्यालय में कुल 40 महाविद्यालय ने ये कार्य किया है। सम्बद्ध 21 महाविद्यालय का कार्य अभी तक बाँकी है जिन्हें ये कार्य करना है। डाटा इंट्री का कार्य नहीं होने की स्थिति में सारी जबाबदेही संबंधित महाविद्यालय की होगी।

अंगीभूत महाविद्यालय में मारवाड़ी कॉलेज, मिल्लत कॉलेज, बी एम ए कॉलेज, एम के कॉलेज, आर सी एस कॉलेज, डी बी कॉलेज, सी एम बी कॉलेज, यू आर कॉलेज, डॉ एल के वी डी कॉलेज,ताजपुर ने डाटा एंट्री का कार्य नही किया है।

कुलपति प्रो एस के सिंह ने सभी वैसे अंगीभूत और सम्बद्ध महाविद्यालय जिन्होंने ये कार्य नही किया है, को आदेशित किया है कि वे 25 फरवरी तक निश्चित तौर पर ऑनलाइन डाटा एंट्री का कार्य कर लें । नोडल पदाधिकारी डॉ अग्रवाल ने वैसे सभी प्रधानाचार्य जिन्होंने अभीतक डाटा एंट्री का कार्य नही किया है, को आग्रह किया कि कुलाधिपति, कुलपति और राज्य सरकार के आदेश की अवहेलना न कर तय समय सीमा में ये कार्य कर लें। जो महाविद्यालय 25 फरवरी 19 तक डाटा एंट्री का कार्य नही कर पाते हैं वे सभी प्रधानाचार्य / नोडल पदाधिकारी 26 फरवरी को 2.30 बजे विश्वविद्यालय के सभागार में होनेवाली वैठक में निश्चित रूप से उपस्थित रहेंगे। जो उस समय तक डाटा एंट्री का कार्य कर लेंगे उनको आने की आवश्यकता नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Grants to colleges who do not enter data entry will be closed