ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहार दरभंगारबी की फसल के लिए अमृत वर्षा मान रहे किसान

रबी की फसल के लिए अमृत वर्षा मान रहे किसान

जाले। प्रखंड क्षेत्र में गुरुवार की असुबह से शुरू हुई बूंदाबांदी ने मौसम का...

रबी की फसल के लिए अमृत वर्षा मान रहे किसान
हिन्दुस्तान टीम,दरभंगाFri, 08 Dec 2023 12:30 AM
ऐप पर पढ़ें

जाले। प्रखंड क्षेत्र में गुरुवार की असुबह से शुरू हुई बूंदाबांदी ने मौसम का मिजाज बदल दिया है। ठंड बढ़ गई है। ग्रामीण इलाके में लोगों ने गर्म कपड़े एवं रजाई निकलना शुरू कर दिया है। वहीं दूसरी ओर बूंदाबांदी ने बोई गई रबी फसल काफी ताकत पहुंचाई है।
जोगियारा के किसान भोला प्रसाद सिंह बताते हैं कि उन्होंने जीरोटीलेज से गेहूं की बुआई की है। पौधों की जड़ में पड़ रहा यह पानी अमृत के समान है। उन्होंने कहा कि अगर हल्की बारिश होकर रह गई तो फसल की इच्छापूर्ति नहीं हो पाएगी, लेकिन अगर थोड़ी सी तेज बारिश हो जाती है तो निश्चित तौर पर यह जीरोटिलेज विधि से बोयी गयी गेहूं सहित सभी रबी फसल के लिए काफी फायदेमंद साबित होगा।

इसी गांव के किसान गौड़ी शंकर सिंह कहते हैं कि उन्होंने एक बीघे में मसूर की खेती की है। इस बारिश से मसूर की फसल को संजीवनी मिल गई है। अब उनके खेतों से मसूर की बेहतर पैदावार की उम्मीद बढ़ गई है। इसी तरह विशंभर प्रसाद सिंह, मुकेश सिंह, हीरा प्रसाद सिंह, रामचंद्र सिंह, गोविंद प्रसाद सिंह, रामकुमार सिंह, सुरेश प्रसाद सिंह, रामदेव राम, राम शरण दास, भरोसी दास, राम अवतार राम, सत्येंद्र प्रसाद सिंह आदि किसानों का कहना है कि इस बारिश ने किसानों के अंदर रबी फसल को लेकर उम्मीदें काफी बढ़ा दी है।

इन किसानों का कहना है कि उन्होंने बड़े क्षेत्रफल में दलहन और तेलहन की खेती कर रखी है। सरसों और तोरी के पौधों को इस बारिश ने काफी फायदा पहुंचाया है। कृषि विज्ञान केंद्र के अध्यक्ष सह वरीय कृषि वैज्ञानिक कहते हैं कि यह बारिश रबी फसल के लिए खासकर दलहनी और तेलहनी फसलों के लिए काफी फायदेमंद है। ऐसी बारिश उचित मात्रा में पौधों की जड़ तक पानी पहुंचा रहा है। ऐसी बारिश का पानी और पोषक तत्व सीधे पौधों की जड़ में पहुंच जाता है। इससे फसलों को काफी ताकत मिलती है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें