DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बैंकरों की हड़ताल से करोड़ों का व्यवसाय प्रभावित

बैंकरों की हड़ताल से करोड़ों का व्यवसाय प्रभावित

1 / 2यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस के बैनर तले बैंककर्मियों की दो दिवसीय हड़ताल के पहले दिन बुधवार को विभिन्न बैंकों की शाखाओं में ताला लटक जाने से ग्राहकों में हाहाकार मच गया। बैकरों के हड़ताल के कारण...

बैंकरों की हड़ताल से करोड़ों का व्यवसाय प्रभावित

2 / 2यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस के बैनर तले बैंककर्मियों की दो दिवसीय हड़ताल के पहले दिन बुधवार को विभिन्न बैंकों की शाखाओं में ताला लटक जाने से ग्राहकों में हाहाकार मच गया। बैकरों के हड़ताल के कारण...

PreviousNext

यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस के बैनर तले बैंककर्मियों की दो दिवसीय हड़ताल के पहले दिन बुधवार को विभिन्न बैंकों की शाखाओं में ताला लटक जाने से ग्राहकों में हाहाकार मच गया। बैकरों के हड़ताल के कारण करोड़ो का व्यवसाय प्रभावित हो गया। हड़ताल से अनभिज्ञ दर्जनों ग्राहक दूर-दूर से विभिन्न बैंकों की शाखाएं पहुंचे। वहां ताला झूलते देख उनलोगों को बैरंग लौटना पड़ा। स्टेट बैंक, कैनरा बैंक आदि की शाखाओं के सामने बैंक कर्मियों ने पूरे दिन अपनी मांगों के समर्थन में धरना व प्रदर्शन किया।

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के दरभंगा शाखा परिसर में एसबीआईओए एवं एसबीआईसीए के बैनर तले हड़ताली बैंक कर्मियों ने केन्द्र सरकार व इंडियन बैंक एसोसिएशन के खिलाफ आक्रोशपूर्ण प्रदर्शन किया। प्रदर्शन के बाद वे लोग वहां धरना पर बैठ गए। उनलोगों को संबोधित करते हुए दोनों संगठनों के पदाधिकारियों ने कहा कि उनलोगों की मांगों का समाधान करने में आईबीए की ओर से अनावयक विलम्ब किया जा रहा है। बैंकों के अधिकारी एवं कर्मचारियों के वेतन पुनरीक्षण की मांग पर भी सरकार उदासीन बनी हुई है। आईबीए की ओर से वेतन वृद्धि को लेकर केवल दो प्रतिशत इजाफा का प्रस्ताव दिया गया है। उनलोगों ने कहा कि सरकार की नीतियों को क्रियान्वित करने व उन्हें लागू करने में बैंक कर्मी सबसे आगे रहते हैं। उनलोगों पर काम का बोझ निरंतर बढ़ता जा रहा है। बावजूद उनलोगों की सुविधाओं की अनदेखी की जा रही है। विभिन्न संगठनों के पदाधिकारी अरुणेश श्रीवास्तव, वासुदेव झा, गौरी शंकर चौधरी, बसंत सिंह व विनोद सरावगी ने कहा कि उनकी मांगे नहीं मानी जाती है तो वे अपने आंदोलन को विस्तारित करेंगे। धरना व प्रदर्शन में चंदन कुमार, एम के लाल, तरुण कुमार, किशोर झा, जितेन्द्र ठाकुर, सुरेन्द्र झा, जफर आलम आदि ने भाग लिया।

वहीं दूसरी ओर अन्य संगठनों के हड़ताली बैंक कर्मियों ने दरभंगा टॉवर से रैली निकाली। इसके बाद कैनरा बैंक के सामने आनंद मोहन झा की अध्यक्षता में सभा हुई। सभा में विभिन्न वक्ताओं ने केन्द्र सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि वह बैंक कर्मियों के साथ भेद भाव की नीति त्याग कर सम्मान जनक समर्झाता करे। सरकार ऐसा नहीं करती है तो मजबूर होकर उनलोगों को अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाना पड़ेगा। इस मौके पर प्रदीप कुमार मिश्रा, रामाधार सिंह, अजीत कुमार सिंह, मो. कैसर आलम, सरोज कुमार सिंह, विकास कुमार झा, कोमल कुमारी, विमल चन्द्र मिश्रा, माला कुमारी आदि ने सभा को संबोधित किया।

बेनीपुर : यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन्स के आह्वान पर 11 वें वेतन समझौता लागू करने की मांग को लेकर बेनीपुर अनुमंडल के आधा दर्जन राष्ट्रीयकृत बैंक बंद रहने से बुधवार को ग्राहकों को भारी परेशानी झेलनी पड़ी। जानकारी के अनुसार 30 एवं 31 मई को उक्त मांग को लेकर बैंक बंद रहेगा।

ग्राहक कनिजा खातुन, फुलदाय देवी सहित दर्जनों लोगों ने एसबीआई की मुख्य शाखा में बैंक खुलने का इंतजार करते हुए कहा कि हमलोगों को बैंक बंद रहने की जानकारी नहीं थी, जिसके फलस्वरूप निराश लौटना पड़ रहा है। अनुमंडल मुख्यालय स्थित एसबीआई की मुख्य एवं एडीबी, पीएनबी, सीबीआई, बैंक ऑफ इंडिया की शाखा में सुबह से शाम तक ताला झुलता रहा और ग्राहकों को निराशन लौटना पड़ा।

सिंहवाड़ा : बैंक कर्मियों की हड़ताल में चले जाने के कारण प्रखंड क्षेत्र में उपभोक्ता परेशान रहे। भरवाड़ा, सिंहवाड़ा, सिमरी बनौली आदि बैंकों में ताले झुलते रहे। सेंट्रल बैंक, इलाहाबाद बैंक, यूबीआई, एसबीआई के शाखाओं में काम के लिए पहुंचे ग्रामीण को मायूस होकर लौटना पड़ा।

जाले : जाले एसबीआई सहित प्रखंड क्षेत्र के सभी राष्ट्रीयकृत बैंकों की शाखाओं मेन ताले झूलते रहे। इस वजह से जरूरतमंद उपभोक्ताओं को निराश होकर बैंकों से लौटना पड़ा। जाले के नसीम अहमद, राकेश कुमार, दीपक कुमार, कैलाश कुमार कर्ण आदि ने बताया कि उन्हें इस बात की जानकारी नहीं थी कि बैंककर्मी दो दिनों की हड़ताल पर हैं।

उन्हें अचानक पारिवारिक कारणों से रुपए की सख्त जरूरत पड़ गई। जब वे लोग बैंक आए तो बैंक में ताले झूल रहे थे और पता चला कि बैं कर्मी दो दिनों की हड़ताल पर है। अब उन लोगों को पारिवारिक जरूरतों को पूरा करने के लिए साहूकारों से या करीबियों से उधार लेना होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Bankers strike affected millions of businesses