ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार दरभंगाडीएमसीएच में मरीज की मौत से नाराज परिजनों ने किया हंगामा

डीएमसीएच में मरीज की मौत से नाराज परिजनों ने किया हंगामा

दरभंगा। इलाज के दौरान रविवार को मरीज की मौत होने पर परिजनों ने डीएमसीएच के

डीएमसीएच में मरीज की मौत से नाराज परिजनों ने किया हंगामा
हिन्दुस्तान टीम,दरभंगाMon, 20 May 2024 01:00 AM
ऐप पर पढ़ें

दरभंगा। इलाज के दौरान रविवार को मरीज की मौत होने पर परिजनों ने डीएमसीएच के इमरजेंसी विभाग में जमकर बबाल काटा। इलाज में लापरवाही का आरोप लगाते हुए वे जूनियर डॉक्टरों से हाथापाई पर उतारू हो गये। इस दौरान एक जूनियर डॉक्टर ने परिजन को थप्पड़ जड़ दिया। इसके बाद वहां का माहौल बिगाड़ने लगा।
परिजनों के हंगामे की सूचना मिलने पर काफी संख्या में जूनियर डॉक्टर वहां पहुंच गए। परिजन भी काफी संख्या में वहां मौजूद थे। मामले को बिगड़ता देख सुरक्षा सुपरवाइजर प्रमोद पाठक के नेतृत्व में गार्डों ने मोर्चा संभाल लिया। मामले की सूचना बेंता थाने की पुलिस को दी गई। दल-बल के साथ पहुंचे बेंता थानाध्यक्ष ने सुरक्षा सुपरवाइजर की मदद से मामले को शांत कराया। इसके बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया। इस दौरान करीब 45 मिनट तक इमरजेंसी विभाग में अफरातफरी मची रही।

जाता है कि मनीगाछी थाना क्षेत्र के मनीगाछी गांव स्थित ब्रहमस्थान के पास पैदल घर जा रहे ग्रामीण रामनारायण विमल महतो (52) को एक पिकअप वैन ने रौंद दिया। हादसे के प्रत्यदर्शियों ने खदेड़कर पिकअप वैन को चालक सहित धर दबोचा और उसकी जमकर धुनाई कर दी। मौके पर पहुंची मनीगाछी पुलिस ने वाहन को जब्त कर चालक को हिरासत में ले लिया। इसके बाद जख्मी रामनारायण को मनीगाछी पीएचसी से रेफर करने पर दोपहर करीब एक बजे डीएमसीएच इमरजेंसी में भर्ती कराया गया। वहां एक घंटे के बाद इलाज के दौरान रामनारायण की मौत हो गई।

इसकी जानकारी होते ही मौजूद स्वजन रोने लगे और फोन कर स्थानीय परिजनों को बुला लिया। शव पर नजर पड़ने के बाद परिजन डॉक्टर चैम्बर में घुस गये। चिकित्सकों के समझाने के बावजूद वे हंगामा करते हुए चिकित्सकों से हाथापाई करने लगे। इसी दौरान पहुंचे बेंता थानाध्यक्ष हरेंद्र कुमार और डीएमसीएच सुरक्षा सुपरवाइजर प्रमोद पाठक ने उन्हें बाहर निकाला। इधर, घटना की सूचना पाते ही डीएमसीएच के पीजी स्टूडेंट दनादन इमरजेंसी विभाग पहुंचने लगे। बेंता थाने की पुलिस के हस्तक्षेप और सुरक्षा सुपरवाइजर की पहल पर मामला शांत हुआ।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
अगला लेख पढ़ें