DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › छपरा › जेपी की प्रतिमा के ऊपर छतरी नहीं, कुर्सी रह गयी खाली
छपरा

जेपी की प्रतिमा के ऊपर छतरी नहीं, कुर्सी रह गयी खाली

हिन्दुस्तान टीम,छपराPublished By: Newswrap
Mon, 11 Oct 2021 07:40 PM
जेपी की प्रतिमा के ऊपर छतरी नहीं, कुर्सी रह गयी खाली

जेपी की जयंती पर सियासत का भी रंग दिखा। सारण जिला राजद के महासचिव अभिषेक यादव उर्फ सोनू राय ने जयप्रकाश जी की जयंती के नाम पर लूट खसोट का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि जयप्रकाश विश्वविद्यालय की स्थापना बिहार के तत्कालीन मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव ने की थी।

विश्वविद्यालय की स्थापना के समय संघर्ष के साथी को नजरअंदाज किया गया। केवल इसे भाजपा का जयंती समारोह बना दिया गया। अन्य जनप्रतिनिधियों को आमंत्रण नहीं देना यह लोकतंत्र में अच्छी बात नहीं है । जयप्रकाश विश्वविद्यालय में जयंती के नाम पर जितना खर्चा हुआ है उसका दो फीसदी भी अगर खर्चा उनकी मूर्ति के ऊपर छतरी में कर दिया गया रहता तो जयप्रकाश जी की मूर्ति गर्मी में ,बरसात में ,ठंड में ऐसे लगी नहीं रहती।

जयप्रकाश विश्वविद्यालय में जयप्रकाश जी की मूर्ति स्थापना में भी सारण के लोगों ने भी चंदा दिया है। उसके बाद स्थापना हो पाई थी। जयंती समारोह में एक भी छात्र- छात्रायें शामिल नहीं हुए। आधी कुर्सियां खाली ही रह गयी थी । इसका मतलब है कि केवल पदाधिकारी ने अपना सीआर ठीक करने के लिए सत्ता में बैठे हुए सत्ताधीश के नजदीक जाकर अपनी गड़बड़ियों को छुपाने का काम किया है।

विश्वविद्यालय व महाविद्यालय कैंपस में प्लास्टिक पर बैन है । बोतल पर बैन है लेकिन पूरे कार्यक्रम में खुलकर बोतल पानी व प्लास्टिक का यूज़ किया गया। छात्र-छात्राओं व शोध छात्रों को सूचना व आमंत्रण भी नहीं दिया गया। हम इसकी निंदा करते हैं।

संबंधित खबरें