ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार छपराबाइक की सीधी टक्कर में स्टेशन मास्टर की मौत

बाइक की सीधी टक्कर में स्टेशन मास्टर की मौत

जय कुमार का फाइल फोटो फोटो 2 पोस्टमार्टम हाउस के बाहर रेल कर्मचारी व परिवार के लोग पेज तीन की लीड नवादा में भी दें छपरा, हमारे संवाददाता। छपरा-सीवान मुख्य पथ पर एकमा थाना क्षेत्र के...

बाइक की सीधी टक्कर में स्टेशन मास्टर की मौत
default image
हिन्दुस्तान टीम,छपराMon, 24 Jun 2024 10:30 PM
ऐप पर पढ़ें

छपरा से चैनवा बुलेट से ड्यूटी करने जा रहे थे स्टेशन मास्टर
एकमा थाना क्षेत्र में माने गांव के समीप हुई घटना

मृतक नवादा जिले के रजौली के निवासी

कुछ दिनों पहले ही छपरा जंक्शन से हुआ था ट्रांसफर

फोटो 1 स्टेशन मास्टर संजय कुमार का फाइल फोटो

फोटो 2 पोस्टमार्टम हाउस के बाहर रेल कर्मचारी व परिवार के लोग

पेज तीन की लीड

नवादा में भी दें

छपरा, हमारे संवाददाता। छपरा-सीवान मुख्य पथ पर एकमा थाना क्षेत्र के माने रेलवे ढाला के समीप स्पीड ब्रेकर पर दो बाइक की आमने-सामने की सीधी टक्कर में स्टेशन मास्टर की मौत घटनास्थल पर हो गई। मृतक नवादा जिले के रजौली के रहने वाले 41 वर्षीय संजय कुमार बताए जाते हैं। वे चैनवा में स्टेशन मास्टर के पद पर कार्यरत थे। वे अपनी बुलेट गाड़ी से ड्यूटी करने जा रहे थे तभी हादसा हुआ। बाइक पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई। घटना रविवार की रात की है। जख्मी हालत में उन्हें एकमा स्वास्थ्य केंद्र पर लाया गया और फिर वहां से छपरा सदर अस्पताल लाया गया जहां डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया। घटना के संबंध में बताया जाता है कि वे छपरा शहर के काशी बाजार स्थित अपने डेरा से ड्यूटी के लिए जा रहे थे। जब रात 10:30 के बाद नहीं पहुंचे तो चैनवा स्टेशन पर ड्यूटी में मौजूद स्टेशन मास्टर ने फोन किया। उनका फोन पुलिस ने उठाकर सूचना दी कि एक्सीडेंट हो गया है। उसके बाद इसकी सूचना परिवार वालों को दी गई। इस घटना में एक अन्य बाइक सवार भी जख्मी हो गया। सोमवार को शव का पोस्टमार्टम छपरा सदर अस्पताल में पुलिस ने करा शव को परिजन को सौंप दिया।

मौत की खबर सुनते ही परिवार में मचा कोहराम

पति की मौत की खबर सुनते ही पत्नी व बच्चों में कोहराम मच गया। वे बिलख-बिलख कर रोने लगे। पत्नी नीलू, बेटा शिवम व बेटी स्नेह लता का रो-रो कर बुरा हाल है। जैसे ही घटना की सूचना पिता बाढो चौधरी को मलि कि वे भी शोकाकुल हो गये। परिवार के लोग सदर अस्पताल में पहुंच गये। मालूम हो कि संजय अपनी बेटी की पारा मेडिकल की परीक्षा पटना से दिलवाकर शाम को छपरा पहुंचे थे। फिर ड्यूटी के लिए वह निकल गए। दो महीने पहले उनका स्थानांतरण छपरा जंक्शन से हुआ था।

साथी की मौत पर स्टेशन मास्टर व रेल कर्मियों में मातम

स्टेशन मास्टर संजय कुमार की मौत के बाद छपरा जंक्शन पर भी मायूसी छा गई। उनके परिवार को सांत्वना देने के लिए यातायात निरीक्षक धर्मेंद्र कुमार, स्टेशन अधीक्षक राजन कुमार, विनय कुमार सिन्हा, राजेश कुमार, मदन दास, संतोष कुमार नीरज कुमार आदि पहुंचे व संवेदना व्यक्त की। कर्मचारियों ने तत्काल परिवार के लिए सहायता के रूप में 37000 इकट्ठा कर लिए। स्टेशन मास्टर एसोसिएशन की ओर से भी 50 हजार की राशि दी जाएगी। वहीं रेल प्रशासन ने तत्काल 25000 की सहायता राशि दी है। इनकी मौत पर अधिकारियों ने भी संवेदना व्यक्त की है। एन ई रेलवे मजदूर यूनियन के संगठन मंत्री शेषनाथ सिंह ने भी परिवार को हर संभव मदद का आश्वासन यूनियन की ओर से दिया।

एक्सीडेंट जोन बना माने रेल ढाला के समीप स्पीड ब्रेकर

दाउदपुर नंदलाल सिंह कॉलेज से लेकर एकमा थाना क्षेत्र के माने रेल फाटक के समीप एनएच पर बने स्पीड ब्रेकर एक्सीडेंट जोन बन गये हैं। सबसे अधिक एक्सीडेंट यहां हो रहा है। प्रशासन को इन स्थानों को चिन्हित करके यहां सड़क दुर्घटना से बचाव को लेकर स्लोगन या कुछ अलग उपाय करना चाहिए । अक्सर यहां सड़क दुर्घटना में लोग अपनी जान गंवा रहे हैं।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।