ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार छपराज्ञानदीप पोर्टल पर महज 360 विद्यार्थियों का ही पंजीकरण

ज्ञानदीप पोर्टल पर महज 360 विद्यार्थियों का ही पंजीकरण

बुलाई बैठक छपरा, हिंदुस्तान प्रतिनिधि। प्राइवेट स्कूलों में नामांकन के लिए ज्ञानदीप पोर्टल पर अब तक महज 360 विद्यार्थियों का ही पंजीकरण हो पाया है। हालांकि 25 जून से बढ़ा कर बच्चों द्वारा एक जुलाई तक...

ज्ञानदीप पोर्टल पर महज 360 विद्यार्थियों का ही पंजीकरण
हिन्दुस्तान टीम,छपराMon, 24 Jun 2024 10:30 PM
ऐप पर पढ़ें

जिले के 4650 पंजीकरण के लक्ष्य के विरुद्ध कम आवेदन पर निदेशक नाराज
प्राइवेट स्कूल प्रबंधन की जूम मीटिंग पर मंगलवार को बुलाई बैठक

छपरा, हिंदुस्तान प्रतिनिधि। प्राइवेट स्कूलों में नामांकन के लिए ज्ञानदीप पोर्टल पर अब तक महज 360 विद्यार्थियों का ही पंजीकरण हो पाया है। हालांकि 25 जून से बढ़ा कर बच्चों द्वारा एक जुलाई तक ज्ञानदीप पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन किया जाएगा। जिले के 4650 पंजीकरण के लक्ष्य के विरुद्ध कम आवेदन पर निदेशक नाराज है। इसको लेकर एसएसए डीपीओ ने मंगलवार को प्रस्वीकृति प्राप्त निजी विद्यालय के प्राचार्य/व्यवस्थापक/सचिव की ऑनलाइन बैठक बुलाइ है। एसएसए डीपीओ ने स्कूल प्रबंधन को भेजे सूचना में कहा है कि सोमवार को निदेशक, प्राथमिक शिक्षा, पटना द्वारा वीडियो कांफ्रेन्सिंग के माध्यम से बैठक आयोजित कर जिलावार आरटीई के तहत 2024-25 में ज्ञानदीप पोर्टल पर बच्चों द्वारा किये गए रजिस्ट्रेशन की समीक्षा की गई। इसमें सारण जिला से 4650 नामांकन के लक्ष्य के विरूद्ध मात्र 360 बच्चों द्वारा ही ज्ञानदीप पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन किया गया है जो काफी दयनीय है। इसलिए 25 जून को ज्ञानदीप पोर्टल पर बच्चों के रजिस्ट्रेशन के कार्य गति की समीक्षा के लिए जूम मीटिंग आहूत की गई है जिसमें आप सभी की उपस्थिति अनिवार्य है। जूम मीटिंग में एक विद्यालय से एक ही व्यक्ति भाग लें।

बिना प्रश्न पत्र व उत्तरपुस्तिका के ही परीक्षा की औपचारिकता

सोमवार से दसवीं की मासिक परीक्षा थी निर्धारित

छपरा, हिंदुस्तान प्रतिनिधि। जिले के माध्यमिक विद्यालयों में दसवीं की मासिक परीक्षा सोमवार से शुरू हो गयी। लेकिन अधिकतर विद्यालयो में प्रश्न पत्र व उत्तर पुस्तिका उपलब्ध नहीं हो पायी जिसकी वजह से परीक्षा सिर्फ औपचारिकता बनकर रह गयी। बच्चे परीक्षा को लेकर बिना बैग के विद्यालय पहुंच गए थे। जब पढ़ाई नहीं होनी थी तो वे घर से बैग लाने की जहमत नहीं उठाना चाह रहे थे। स्कूल प्रशासन भी आनन फानन में बोर्ड पर प्रश्न लिखवा कर किसी तरह परीक्षा का कोरम पूरा किया। मालूम हो कि प्रश्न पत्र व उत्तर पुस्तिका बिहार बोर्ड को उपलब्ध कराना है। पिछले कई महीनों से मासिक परीक्षा के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति हो रही है। परीक्षा सोमवार, मंगलवार और बुधवार को दोनों पालियों में निर्धारित है। उधर, जब इसके बारे में डीईओ कार्यालय के परीक्षा विभाग से संपर्क किया गया तो पता चला कि पर्याप्त मात्रा में बिहार बोर्ड के द्वारा प्रश्न पत्र व उत्तर पुस्तिका उपलब्ध करायी गयी है। सभी प्रधानाध्यापकों को प्रश्न पत्र व उत्तर पुस्तिका उठाव करने की सूचना भी समय से भेज दी गई थी। इसके बावजूद अधिकतर प्रधानाध्यापकों के द्वारा रविवार तक उठाव नहीं किया जा सका जिसकी वजह से सोमवार को परेशानी खड़ी हुई होगी। पूरी गड़बड़ी व लापरवाही प्रधानाध्यापकों की बताई जा रही है। डीईओ ने कहा कि लापरवाह प्रधानाध्यापकों को चिन्हित किया जाएगा। उनसे जवाब तलब किया जाएगा।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।