DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ठंड का असर मुसाफिरों पर पड़ा, स्टेशन पर पसरा सन्नाटा

कड़ाके की ठंड का असर आम जन जीवन के साथ ही रेलवे के राजस्व पर भी पड़ने लगा है। कभी यात्रियों से गुलजार रहने वाला छपरा जंक्शन अब ठंड की वजह से सूना पड़ा है। स्टेशन के एक नम्बर प्लेटफॉर्म से लेकर पांच नम्बर तक सन्नाटा पड़ा हुआ है। कड़ाके की ठंड के वजह से यात्री सफर नहीं कर रहे हैं। कभी छपरा जंक्शन से 20 से 25 हजार यात्री सफर करते थे। आज दस हजार भी यात्री सफर नहीं कर रहे हैं। कभी जनरल टिकट लेने के लिए यात्रियों की लंबी कतार जंक्शन के टिकट काउंटर पर लगती थी। पिछले एक जनवरी से टिकट काउंटर पर दस से बीस यात्रियों की कतार देखने को मिल रही है। वहीं घने कोहरे ने ट्रेनों की रफ्तार को रोक दिया है। शायद यही वजह है कि लंबी दूरी की यात्रा करने वाले यात्रियों को दिल्ली की साढ़े नो सौ किलो मीटर की दूरी तय करने में सुफर फास्ट ट्रेनों से 36 घंटे या इससे अधिक लग जा रहा है। यात्री इन दिनो मुस्कान भरी यात्री की जगह थकान भरी यात्रा करने को मजबूर हो गये हैं। केवल स्वतंत्रता सेनानी की बात नहीं है। छपरा-गोखपुर रूट की सभी महत्वपूर्ण ट्रेनों का यही हाल है। चाहे वैशाली हो या फिर विहार सर्पक क्रांति-सभी घंटों देरी से चल रही हैं। हरिहर नाथ, शहीद व जनसेवा एक्सप्रेस आदि को गुरुवार को रद्द कर दिया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Freezing impact on passengers