DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तिहरे हत्याकांड में प्राथमिकी दर्ज, नौ नामजद और दस अज्ञात आरोपित

नारायणपुर गांव में मंगलवार की रात हुए तिहरे हत्याकांड के मामले में प्राथमिकी दर्ज कर ली गई। दर्ज प्राथमिकी में नौ नामजद और आठ से दस अज्ञात लोगों को आरोपित किया गया है। पुलिस ने त्वरित कारवाई करते हुए दो आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। जख्मी सुशीला देवी ने प्राथमिकी दर्ज करा कर कहा है कि वह रात्रि में पुत्री प्रतिमा कुमारी, सास बासमातो देवी के साथ आंगन में सोयी थीं। बड़ा पुत्र बिजेंद्र कुमार पास ही में खाट पर सोया था जबकि पति राजेश्वर राय और छोटा पुत्र बगल के कमरे में सोए थे। रात्रि साढ़े बारह बजे उनका पुत्र लघुशंका करने के लिए उठा। इसी बीच उनकी भी नींद खुल गई। तभी आंगन की दीवार के बाहर कुछ लोग खड़े दिखे। इनमें से नारायणपुर के अनिल राय, दिलीप राय, लक्ष्मण राय, रामपुर के विश्राम राय, सोमनाथ राय, विजय राय, पंकज राय, मढ़ौरा थाने के झखड़ा गांव के सुरेश राय, दरियापुर थाने के नाथा छपरा को उसने पहचान लिया जबकि आठ-दस लोगों को वह नहीं पहचान सकी। ये सभी हमलावर उन लोगों पर बम फेंकने लगे। आवाज सुन कर घर मे सोये पति राजेश्वर राय और छोटा पुत्र भी कमरे से बाहर आ गए। बड़े पुत्र ने कहा कि सभी बाहर भाग चलते हैं वरना ये लोग हमें जान से मार डालेंगे। जैसे ही मेरे ससुर पारस राय, सास बासमातो देवी और पुत्र दरवाजा खोल कर बाहर निकले, इन पर बमों से हमला कर दिया गया और फिर गोली मार दी गई। इससे आंगन और दरवाजे पर अंधेरा छा गया। जब ये लोग चिल्लाने लगे तो हमलावरों ने इन पर भी बम और गोलियों से हमला कर दिया। इससे उनके पति और पुत्री झुलस गए। सास, ससुर और पुत्र मौके पर ही मर गए। वह बेहोश होकर वहीं गिर पड़ी। हमलावर उन्हें लाठी से मारने लगे। सभी पहले से ही तय कर आए थे कि सबों को जान से मार देना है। गांव का कोई भी व्यक्ति उन्हें बचाने नहीं आया। बाद में पहुंची पुलिस ने उन्हें, पति और पुत्री को इलाज के लिए अस्पताल पहुंचाया। घटना का कारण पूर्व का जमीन विवाद और मुकदमा बताया गया है। थानाध्यक्ष कुमार संतोष रजक ने बताया कि इनमें से दो आरोपितों रामपुर के विश्राम राम और सोमनाथ राय को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। अन्य आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए लगातार छापेमारी की जा रही है। मालूम हो कि नारायणपुर गांव में मंगलवार की रात हमलावरों ने दादा-दादी व पोते की गोली मार कर हत्या कर दी थी। इस दौरान हुई गोलीबारी व बमबाजी में इसी परिवार की तीन अन्य सदस्य घायल हो गए जिनका इलाज अस्पताल में चल रहा है। पिछले साल भी चली थी गोली तिहरे हत्याकांड के मुख्य आरोपी अनिल राय और राजेश्वर राय के पुत्र हरेराम के बीच पिछले साल भी डेरनी थाना क्षेत्र में भिड़ंत हुई थी। हरेराम राय डेरनी थाने के सुल्तानपुर गांव में अपने किसी संबंधी के यहां गया था। अनिल राय को जैसे ही इसकी जानकारी हुई कि वह उसकी खोजबीन में वहां पहुंच गया। अनिल राय ने उस पर गोली भी चलाई थी, लेकिन हरेराम इस हमले में बाल-बाल बच गया। हालांकि एक महिला इस हमले में जख्मी हो गई थी। फिलहाल हरेराम अनिल राय के भांजे की हत्या के आरोप में जेल में बंद है। ---

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:FIR registered in Triple murder case, nine nominations and Ten accused arrested