DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जेपीयू के गंगा सिंह लॉ कॉलेज के अस्तित्व पर ग्रहण

जेपीविवि के कॉलेजों में अभी नये कोर्स शुरू करने का प्रयास किया जा रहा है लेकिन पूर्व से विवि के इकलौते गंगा सिंह लॉ कॉलेज में पढ़ाई शुरू नहीं करने से उसके अस्तित्व पर ग्रहण लग गया है। विवि प्रशासन कोई सार्थक कदम नहीं उठा रहा है। पुराने कोर्स धीरे-धीरे बंद होते जा रहे हैं। बार काउंसिल द्वारा कॉलेज की व्यवस्था मानक के अनुरूप नहीं होने के कारण वर्ष 2012 में ही तीन वर्षीय एलएलबी पाठ्यक्रम में नये नामांकन पर रोक लगा दी गयी थी। इसके बाद, विगत सत्र 2012-13, 2013-14,2014-15,2015-16,2016-17,2017-18,2018-19 व 2019-20में लॉ कॉलेज में एक भी छात्र का नामांकन नहीं हो पाया।

1965 से शुरू हुई थी पढ़ाई

गंगा सिंह कॉलेज के तत्कालीन प्राचार्य व छपरा बार काउंसिल के सदस्यों और शहर के शिक्षाविद के प्रयास से 1965 में छपरा जिले में लॉ कॉलेज की स्थापना की गयी थी। उस समय बिहार विश्वविद्यालय के अंतर्गत तीन वर्षीय एलएलबी पाठ्यक्रम में नामांकन के साथ ही पढ़ाई शुरू की गयी। बाद में बिहार विश्वविद्यालय से टूट कर जेपीविवि की स्थापना होने के बाद लॉ कॉलेज जेपीविवि के अधीन संचालित होने लगा। सारण प्रमंडल में लॉ की पढ़ाई के लिए इकलौता कॉलेज होने के कारण लॉ की पढ़ाई का सपना रखनेवाले छपरा, सीवान,गोपालगंज के छात्रों को इससे काफी लाभ भी हुआ। हर साल काफी संख्या में यहां के छात्र कम खर्च में लॉ की पढ़ाई करने में सफल होते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Eclipse on the existence of Gangu Singh Law College of J P