ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार छपराखनुआ के विस्थापित दुकानदारों को निर्माणाधीन मॉल में मिले जगह

खनुआ के विस्थापित दुकानदारों को निर्माणाधीन मॉल में मिले जगह

साथ न्याय करने की उठी मांग छपरा, नगर प्रतिनिधि। छपरा शहर के खनुआ नाला के वास्तविक रूप से विस्थापित दुकानदारों के पुनर्वासन को ले एक बैठक वेटरंस फोरम के सचिव विंग कमांडर बीएनपी सिंह के अध्यक्षता में ...

खनुआ के  विस्थापित दुकानदारों को निर्माणाधीन मॉल में  मिले जगह
हिन्दुस्तान टीम,छपराMon, 24 Jun 2024 10:30 PM
ऐप पर पढ़ें

छपरा क्लब के खाली दुकानों का आवंटन भी विस्थापित दुकानदारों को हो
हाई कोर्ट के निर्णय के आलोक में विस्थापित दुकानदारों के साथ न्याय करने की उठी मांग

छपरा, नगर प्रतिनिधि। छपरा शहर के खनुआ नाला के वास्तविक रूप से विस्थापित दुकानदारों के पुनर्वासन को ले एक बैठक वेटरंस फोरम के सचिव विंग कमांडर बीएनपी सिंह के अध्यक्षता में सोमवार को हुई। विस्थापित दुकानदारों के पुनर्वासन की समस्या पर विस्तार से चर्चा की गई। बैठक में यह बात प्रमुखता से सामने आयी कि वास्तविक विस्थापित वे नहीं हैं जिन्होंने आवंटन प्राप्त किया था और किराए पर दुकानों को उठा रखा था , बल्कि वे हैं जिनका दिन प्रतिदिन के कारोबार से रोटी रोजी चलती थी । ऐसे दुकानदारों की प्रतिष्ठा के साथ दशकों की पूंजी डूबी है और वे अकारण विस्थापित हुए हैं । बैठक में पटना उच्च न्यायालय के आदेश के संदर्भ में यह बात उठाई गई कि उच्च न्यायालय ने अपने आदेश में यह लिखा है कि भविष्य में नया निर्माण होने की स्थिति में विस्थापित व्यक्तियों को प्राथमिकता के आधार पर दुकान उपलब्ध करायी जाएगी। बैठक में उच्च न्यायालय के आदेश के संदर्भ में यह तय किया गया की वास्तविक रूप से विस्थापित दुकानदारों की सूची तैयार की जाएगी और निर्माणाधीन मॉल में उनको स्थान दिलाने के लिए यथोचित अग्रिम कार्यवाही भी की जाएगी। यह आशंका व्यक्त की गई कि सरकारी बाजार में निर्माणाधीन माल के 100 मीटर के आसपास के दायरे में आने वाले फुटकर व्यापारियों और दुकानों को भी ध्वस्त किया जा सकता है क्योंकि बड़े शहरों में माल की भव्यता बनाने के लिए ऐसे स्थान खाली कराए जाते रहे हैं । ऐसी स्थिति में यह निर्णय भी लिया गया की प्रस्तावित मॉल के 100 मीटर के दायरे में संभावित विस्थापित दुकानदारों को भी मॉल में स्थान दिलाने की लिए उचित प्रयास किया जाएगा। छपरा क्लब के परिसर में निर्मित कुल 47 दुकानों में से 25-26 के लगभग दुकानें अब भी खाली पड़ी हैं। मांग की गई कि यदि खनुआ के विस्थापित दुकानदार इच्छुक हों तो छपरा क्लब की खाली दुकानों में भी उनकी दुकान के आवंटन की व्यवस्था की जाए। एक तीन सदस्यीय समिति बनाई गई जिसमें प्रो पृथ्वीराज सिंह , कृष्ण कुमार यादव और पंकज कुमार जायसवाल शामिल हैं। यह समिति प्राथमिकता के आधार पर खनुआ नाला के वास्तविक रूप से प्रभावित व विस्थापित दुकानदारों की सूची तैयार करेगी।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।