ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार छपराकार्यशाला में खसरा और पोलियो रोग को लेकर हुई चर्चा

कार्यशाला में खसरा और पोलियो रोग को लेकर हुई चर्चा

या गया। हुई। कार्यशाला में डब्लूएचओ के सर्वेलेंस मेडिकल टीम भी शामिल था। कार्यशाला की विधिवत शुरुवात करते हुए चिकित्सा प्रभारी डॉ. एमएम जाफरी ने पोलियो उन्मूलन एवं खसरा जनित रोग से मृत्यु को कम करने...

कार्यशाला में खसरा और पोलियो रोग को लेकर हुई चर्चा
हिन्दुस्तान टीम,छपराSat, 11 May 2024 09:30 PM
ऐप पर पढ़ें

बनियापुर, एक प्रतिनिधि।
रेफ़रल अस्पताल बनियापुर में खसरा और पोलियो रोग को लेकर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। हुई। कार्यशाला में डब्लूएचओ के सर्वेलेंस मेडिकल

टीम भी शामिल था। कार्यशाला की विधिवत शुरुवात करते हुए चिकित्सा प्रभारी डॉ. एमएम जाफरी ने पोलियो उन्मूलन एवं खसरा जनित रोग से मृत्यु को कम करने की विषय पर विशेष रूप से चर्चा की। पोलियो रोग व खसरा के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई। एफपी व खसरा क्या है, किसे रिपोर्ट करनी है, किसे रिपोर्ट नहीं करनी है सहित कई बिंदुओं पर जानकारी दी गई। बताया गया कि 15 वर्ष तक का कोई भी ऐसा बच्चा जिसका कोई भी अंग अचानक लुंजपुंज या कमजोर पड़ जाय अथवा किसी भी उम्र का व्यक्ति जिसे पोलियो का संदेह हो एवं बुखार व शरीर पर लाल चिक्कतों के साथ खांसी हो उसे फौरन डॉक्टर से दिखाना चाहिए। वहीं पोलियो उन्मूलन की रणनीतियों पर विस्तार से चर्चा की गई। खसरा के बारे में कहा गया कि यह बीमारी विषाणु के कारण होती है। जो विषाणु सिर्फ मनुष्य के शरीर में पाया जाता है। खसरा बहुत ही संक्रामक है। वहीं खसरा से होनेवाली मृत्यु दर कम करने की रणनीतियों के बारे में जानकारी दी गई। मौके पर स्वास्थ प्रबंधक अजीत कुमार,

डब्लूएचओके स्टाफ डॉ. मो.इलताफ हुसैन, मिथलेश कुमार, नितेश कुमार,विनय कुमार सहित सभी कर्मी मौजूद थे।

सोनपुर के दुर्गम क्षेत्रों में जाकर शत प्रतिशत टीकाकरण में एएनएम अंजू ने निभाई महती भूमिका

विश्व नर्स दिवस

छपरा, हमारे संवाददाता। अनुमंडलीय अस्पताल सोनपुर की उपाधीक्षक सह प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ पूनम कुमारी का कहना है कि कोरोना संक्रमण काल के दौरान अपनी जिंदगी की चिंता छोड़ कोविड- 19 टीकाकरण में अपनी जिम्मेदारियों को शत-प्रतिशत सुनिश्चित करने में स्थानीय अस्पताल की एएनएम अंजू कुमारी आगे रहीं हैं क्योंकि कोरोना संक्रमण काल के दौरान एएनएम स्कूल में कोरोंटाइन सेंटर में चौबीसों घंटे रह कर अपने कर्तव्यों को बखूबी निभायी है। हालांकि इसके अलावा कोरोना जांच के साथ ही पंजीकरण की जिम्मेदारियों का डट कर सामना किया है। वहीं जब 15 जनवरी 2021 को टीकाकरण की शुरुआत हुई तो सोनपुर के कसमर पंचायत अंतर्गत दियारा जैसे दुर्गम क्षेत्रों में जाकर शत-प्रतिशत टीकाकरण जैसे कार्यो में महती भूमिका निभायी हैं। कोविड- 19 संक्रमण काल के दौरान कोरेंटिन सेंटर और जांच सहित दियारा क्षेत्रों के ग्रामीणों को टीकाकरण में अपनी जिम्मेदारियों को शत प्रतिशत सुनिश्चित कराने में निभाई है।‌

सिविल सर्जन डॉ सागर दुलाल सिन्हा ने कहा कि चिकित्सकीय सहायता प्रदान करने में चिकित्सकों के अलावा स्वास्थ्य केंद्रों में कार्यरत एएनएम, जीएनएम सहित कई अन्य कर्मियों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। इनके सार्थक प्रयास से ही अस्पतालों में इलाज़रत मरीज जल्द स्वस्थ होकर अपने घर जाते हैं। स्वास्थ्य केंद्रों में कार्यरत नर्स रोगियों के उपचार में महत्वपूर्ण भूमिका को सार्थक रूप देने का काम करती है। मनोबल बढ़ाने के लिए नर्सिंग सेवा से जुड़ी एएनएम या स्टाफ नर्स को उत्कृष्ट कार्यों को लेकर समय- समय पर प्रोत्साहित किया जाता है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।