DA Image
22 अप्रैल, 2021|9:01|IST

अगली स्टोरी

लाइव-जिप अध्यक्ष के पति का क्रिमिनल रिवीजन खारिज

default image

लाइव-जिप अध्यक्ष के पति का क्रिमिनल रिवीजन खारिज

दरोगा-सिपाही हत्याकांड में हैं आरोपित

जिप अध्यक्ष समेत पांच पर चार्जशीट

छपरा। नगर प्रतिनिधि

दरोगा -सिपाही हत्याकांड आरोपित जिप अध्यक्ष के पति अरुण सिंह का क्रिमिनल रिवीजन आवेदन छपरा कोर्ट से खारिज हो गया। सीजीएम ने अरुण सिंह को राहत देने से इंकार कर दिया। मालूम हो कि अरुण सिंह ने सीजीएम के संज्ञान आदेश के खिलाफ क्रिमिनल रिवीजन कोर्ट में दाखिल किया था। आवेदन में कहा गया था कि हत्याकांड से उनका कोई लेना देना नहीं है और वह हत्या के समय बलिया जेल में बंद थे। साजिश के तहत उनका नाम हत्याकांड में जोड़ा गया है। इसके बाद सीजीएम ने अरुण सिंह के आवेदन को खारिज कर दिया। इससे पहले जिप अध्यक्ष मीना अरुण समेत पांच लोगों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल किया गया है। चार्जशीट दाखिल होने के बाद मीना अरुण की मुश्किलें बढ़ गई हैं। कोर्ट सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक साक्ष्य के लिए अब तीन मार्च से गवाही होगी। उल्लेखनीय है कि 20 अगस्त 2019 को मढ़ौरा बाजार के एल आई सी कार्यालय के शिव पार्वती वस्त्रालय के पास स्कार्पियो गाड़ी पर सवार अपराधियों ने बोलेरो गाड़ी पर सवार एसआइटी की टीम जो छापामारी हेतु जा रही थी उस पर हमला कर दिया। जिसके कारण एसआईटी के दारोगा मिथिलेश कुमार साह एवं सिपाही फारुख अहमद की मृत्यु हो गई थी और पुलिस की सर्विस पिस्टल और एके 47 लेकर फरार हो गए थे और एक सिपाही रजनीश कुमार जख्मी हो गया था, जिसकों घायल अवस्था में पीएमसीएच पटना इलाज के लिए भेजा गया पुलिस ने घटना मे कुल सात व्यक्तियों पर नामजद प्राथमिकी दर्ज की थी और जांच के क्त्रम में 14-15 लोगों को अप्राथमिक अभियुक्त बनाया था और अभी तक 14 - 15 अभियुक्त को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेजा है फरार आरोपियों के खिलाफ कुर्की जब्ती भी पुलिस ने की थी। मुख्य आरोपित सुबोध सिंह ने हाल ही में कोर्ट में सरेंडर किया है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Criminal revision of live-zip president 39 s husband rejected