Vishnu devotees for the roundabout of the Mandap in Mahayagya - सरेंजा में श्री विष्णु महायज्ञ में मण्डप की परिक्रमा के लिए उमड़ी श्रद्धालु DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सरेंजा में श्री विष्णु महायज्ञ में मण्डप की परिक्रमा के लिए उमड़ी श्रद्धालु

बक्सर-कोचस मार्ग पर स्थित प्रखण्ड के सरेंजा गांव में विगत 24 मई से कलश जलभरी के बाद से आरम्भ हुए पांचवें श्री विष्णु महायज्ञ में आस्था का मेला लगा हुआ है। इस यज्ञ में आकर यज्ञ मण्डप की परिक्रमा कर पूजा-अर्चना करने वाले लोगों की भारी भीड़ उमड़ रही है। बुधवार को भी प्रखण्ड के विभिन्न भागों के अलावा राजपुर और इटाढ़ी प्रखण्ड के कई गांवों से इस महायज्ञ में आकर यज्ञ मण्डप की परिक्रमा करने के लिए महिला और पुरुष श्रद्धालुओं का रेला सुबह से शाम तक लगा रहा।

स्वामी हरिनारायण गिरि जी महाराज के नेतृत्व में विश्व शांति एवं इलाके के लोगों की सुख-समृद्धि और आपसी भाईचारे की मंगल कामना के उद्देश्य से आयोजित किए जा रहे इस इस पांचवें महायज्ञ के दौरान बुधवार को भी वेदी पूजा, हवन और अन्य विधि विधान पूरे धार्मिक तौर तरीके के साथ की गई।

शांति से ही होता है समृद्धि का होता है आगमन: इस अवसर पर आयोजित सत्संग में अपने विचार वाणी व्यक्त करते हुए स्वामी हरिनारायण गिरि जी महाराज ने कहा कि शांति से ही समृद्धि का आगमन होता है। जहां शांति नहीं, वहां सुख-समृद्धि आने की कल्पना नहीं की जा सकती है। स्वामी जी ने कथा के दौरान कहा कि भागवत कथा का श्रवण हर किसी को अपने जीवन में अवश्य करना चाहिये। कथा का श्रवण करने से जीवन में अच्छाई आने का मार्ग प्रशस्त होता है। इससे केवल परिवार व समाज ही नहीं, बल्कि जीवन भी सुंदर होता है।

रासलीला का लोग ले रहे आनन्द: वर्ष 2008 से आयोजित किए जा रहे इस पांचवें श्री विष्णु महायज्ञ में मथुरा और वृंदावन की नाट्य मण्डली के कलाकारों के द्वारा प्रतिदिन रात में भव्य और आकर्षक रामसीला का भी आयोजन किया जा रहा है। इसका आनन्द सरेंजा, कुसरुपा, जदपुरवा, कोचाढ़ी, सौंवाबांध और भलुआ सहित आसपास के कई गांव से आकर पुरुष, महिला और बच्चे ले रहे है। वहीं इस अवसर पर यहां लगे विशाल मेले का भी लोगों द्वारा खूब जमकर आनन्द लिया जा रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Vishnu devotees for the roundabout of the Mandap in Mahayagya