DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  बक्सर  ›  बीजोपचार के बाद ही नर्सरी में लगाएं धान,मिलेगा अच्छा परिणाम

बक्सर बीजोपचार के बाद ही नर्सरी में लगाएं धान,मिलेगा अच्छा परिणाम

हिन्दुस्तान टीम,बक्सरPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 10:50 AM
 बीजोपचार के बाद ही नर्सरी में लगाएं धान,मिलेगा अच्छा परिणाम

डुमरांव। निज प्रतिनिधि

रोहिणी नक्षत्र चढते ही किसान खरीफ फसल की तैयारी में लग जाते है।धान का बीज डालने के लिए किसान खेतों को तैयार करने में लगे है।कृषि वैज्ञानिक डा.प्रकाश सिंह ने धान की नर्सरी डालने से पहले किसान को बीजोपचार करने की सलाह दी है।इससे बीज जमने के साथ उसे मृदा जनित रोगों से बचाया भी जा सकता हैं। बीजोपचार कर उत्पादन भी बढ़ाया जा सकता हैं।

बढ जाती है अंकुरण की क्षमता

कृषि वैज्ञानिक ने बताया कि धान के बीजों को कवकनाशी एवं जीवाणुनाशी रसायन से उपचारित किया जाता है, जिससे बीज जमीन में सुरक्षित रहते है, क्योंकि बीजोपचार के बाद रसायन बीज के चारों तरफ रक्षक लेप के रूप में चढ़ जाता है।बुआई के बाद रसायन ऐसे जीवों को बीज से दूर रखता है। बीजों को उचित कवकनाशी से उपचारित करने से उनकी सतह कवकों से सुरक्षित रहता है। जिससे बीजो की अंकुरण क्षमता बढ़ जाती है। भंडारण के दौरान भी उपचारित सतह के कारण उनकी अंकुरण क्षमता बनी रहती है।

-बीजोपचार करते समय बरते सावधानियां

कृषि वैज्ञानिक ने कहा कि बीजों को पहले फफूंद नाशक उसके बाद कीटनाशक दवा और जैविक कल्चर से उपचार करना चाहिए। उपचारित बीज को तुरंत बुआई में प्रयोग करना चाहिए। बुआई के बाद बचे उपचारित बीज को खाने से बचना चाहिए। जानवरों को भी नहीं खिलाना चाहिए।दवा के खाली डिब्बे या पैकेट नष्ट कर देना चाहिए।

ऐसे कर सकते है बीजोपचारः

पानी में नमक का दो प्रतिशत का घोल तैयार करें। कृषि वैज्ञानिक ने कहा कि इसके लिए 20 ग्राम नमक को एक लीटर पानी में अच्छी तरह मिला ले।फिर बुआई में प्रयोग होने वाले बीजों को डालकर हिलाए, जिससे हल्के व रोगी बीज इस घोल में तैरने लगते हैं। इसे अलग करते हुए तली में बैठे बीजों को साफ पानी से धोकर सुखाकर फिर फफूंदनाशक, कीटनाशक व जीवाणु कल्चर से उपचारित करके किसान बुआई कर सकते है। बाविस्टीन, कैप्टान या थीरम की दो-तीन ग्राम प्रति किग्रा या ट्राइकोडर्मा 10 ग्राम प्रति किलोग्राम के साथ पीएसबी कल्चर छह ग्राम और एजेटोबैक्टर कल्चर छह ग्राम प्रति किलोग्राम बीज के हिसाब से उपचारित कर नम जूट बैग के ऊपर छाया में फैला देना चाहिए।

इसके बाद बीज का प्रयोग किसान नर्सरी में कर सकते है।

संबंधित खबरें