ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार बक्सरफुट ओवरब्रिज पर शेड नहीं होने भीषण गर्मी में यात्री परेशान

फुट ओवरब्रिज पर शेड नहीं होने भीषण गर्मी में यात्री परेशान

पेज पांच की लीड ----------- समस्या भीड़ की धक्कामुक्की के बीच दिव्यांगों की छूट जाती है ट्रेनें धूप-बारिश में परेशानी झेलते हुए प्लेटफार्म पर पहुंचते हैं यात्री फ़ोटो संख्या 01 कैप्शन - डुमरांव रेलवे...

फुट ओवरब्रिज पर शेड नहीं होने भीषण गर्मी में यात्री परेशान
हिन्दुस्तान टीम,बक्सरSat, 25 May 2024 08:15 PM
ऐप पर पढ़ें

पेज पांच की लीड
-----------

समस्या

भीड़ की धक्कामुक्की के बीच दिव्यांगों की छूट जाती है ट्रेनें

धूप-बारिश में परेशानी झेलते हुए प्लेटफार्म पर पहुंचते हैं यात्री

फ़ोटो संख्या 01 कैप्शन - डुमरांव रेलवे स्टेशन पर बिना शेड के फुट ओवरब्रिज से उतरते यात्री।

डुमरांव, संवाद सूत्र। दानापुर-बक्सर रेलखंड के डुमरांव रेलवे स्टेशन पर यात्री सुविधाओं की घोर कमी है। स्टेशन पर शौचालय, पेयजल, लाइट के साथ ही फुट ओवरब्रिज पर शेड नहीं होने से रेल यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। स्टेशन के फुट ओवरब्रिज पर शेड नहीं रहने से यात्री गर्मी के इस मौसम में परेशान होते हैं। रेलवे का बेहतर यात्रा का दावा खोखला साबित हो रहा है। तेज धूप के साथ गर्म हवा से लोगों की परेशानी बढ़ गई है। स्टेशन पर प्लेटफार्म को जोड़ने के लिए वर्षो पहले बनाया गया फुट ओवरब्रिज यात्रियों के लिए जानलेवा साबित हो सकता है। प्लेटफार्म पर आए दिन यात्रियों की भीड़ इसी ब्रिज से आती-जाती है। ब्रिज पर शेड नहीं होने से यात्रियों को मुश्किलें होती है।

यात्री धूप के थपेड़े और बरसात में बारिश को झेलते हुए प्लेटफार्म पर पहुंचते हैं। जानकारी के अनुसार स्टेशन से हर रोज करीब 10 हजार से अधिक यात्रियों का आवागमन होता है। दियारे इलाका से लेकर रोहतास सीमा तक यात्री कोलकात्ता, दिल्ली सहित दूर-दराज के शहरों की यात्रा करते है। खासकर दिव्यांग यात्रियों के लिए कोई सुविधा उपलब्ध नही है। ट्रेनों के आने के बाद ओवरब्रिज पर यात्रियों का हुजूम और धक्का-मुक्की से दिव्यांग चाह कर भी ब्रिज पर नही चढ़ पाते हैं। नतीजतन, दिव्यांगों की ट्रेनें छूट जाती है। रेल यात्री पवन कुमार, दिवाकर मिश्र, कमलेश कुमार, राधिका, बेबी और मनीषा ने बताया कि अगर भारी सामान हो तो ओवरब्रिज से पार करना मुश्किल हो जाता है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।