ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहार बक्सरकेसठ में महज 8.6 फीसद लोग ही देते हैं स्वच्छता शुल्क

केसठ में महज 8.6 फीसद लोग ही देते हैं स्वच्छता शुल्क

उदासीनता पंचायतों में मात्र 8.6 फीसद ग्रामीण दे रहे चार्ज 3 माह से सफाईकर्मियों को नहीं मिल रहा वेतन केसठ, एक संवाददाता। लोहिया स्वच्छता बिहार अभियान के तहत पंचायतों में वेस्ट प्रोसेसिंग यूनिट, सॉलिड...

केसठ में महज 8.6 फीसद लोग ही देते हैं स्वच्छता शुल्क
हिन्दुस्तान टीम,बक्सरThu, 07 Dec 2023 09:30 PM
ऐप पर पढ़ें

उदासीनता
पंचायतों में मात्र 8.6 फीसद ग्रामीण दे रहे चार्ज

3 माह से सफाईकर्मियों को नहीं मिल रहा वेतन

केसठ, एक संवाददाता। लोहिया स्वच्छता बिहार अभियान के तहत पंचायतों में वेस्ट प्रोसेसिंग यूनिट, सॉलिड लिक्विडी वेस्ट मैनेजमेंट, प्लास्टिक वेस्ट मैनेजमेंट और सोख्ता का निर्माण करा प्रखंड जिले में प्रथम स्थान प्राप्त कर चुका है। प्रखंड के सभी तीनों पंचायतों में वेस्ट प्रोसेसिंग यूनिट बनाकर गीला व सूखा कचरा तथा प्लास्टिक कचरा का अलग-अलग प्रोसेसिंग कर कम्पोस्टिंग तैयार किया जा रहा है। लेकिन, ग्रामीण क्षेत्र में घरों से सफाई कर्मियों को यूजर चार्ज नहीं देने से उनके मानदेय का भुगतान नहीं हो पा रहा है। कर्मियों को तीन हजार रुपये प्रतिमाह मुखिया को मानदेय भुगतान करना है। प्रखंड के सभी 3 पंचायतों में 8 हजार 9 सौ 35 हाउस होल्डर हैं। जिनके घरों से स्वच्छता कर्मी कचरा उठाव करते हैं। इनमें से महज 8.6 फीसद यानी 770 लोग ही प्रतिमाह यूजर चार्ज 30 रुपये भुगतान कर रहे हैं। सभी 45 वार्ड में 97 सफाईकर्मी चयनित किए गए हैं। जो घरों से कचरा उठाव कर प्रोसेसिंग प्लांट तक लाएंगे। इसके बदले उन्हें मुखिया तीन हजार रुपये प्रतिमाह मानदेय भुगतान करते हैं। मानदेय का भुगतान यूजर चार्ज से जमा राशि से ही की जानी है। साथ ही, सफाई उपकरणों का रख-रखाव भी करना है।

क्या कहते हैं स्वच्छता पर्यवेक्षक

स्वच्छता पर्यवेक्षक संजय बारी, प्रदीप कुमार, अयोध्या पासवान का कहना है कि यूजर चार्ज मांगने पर लोग झगड़ा करने पर उतारू हो जाते है। इस समस्या की जानकारी से प्रखंड प्रशासन को अवगत कराया गया है। लेकिन, उनका सहयोग नहीं मिलने से यूजर चार्ज वसूली में परेशानी हो रही है।

सफाईकर्मियों को तीन माह से मानदेय नहीं

स्वच्छताकर्मी सुमन देवी, बिमला देवी, बिरेंद्र पासवान, सुनील राम, संग्राम पासवान, भिखारी रजक, सागर कुमार, इंद्रजीत प्रसाद, मुफ्तार मुसहर, संतोष प्रसाद आदि का कहना है कि तीन माह से वेतन नहीं मिला है। जिससे जीविकोपार्जन करने में दिक्कत हो रही है। जबकि, कर्मी प्रतिदिन सफाई कर रहे हैं। लेकिन, स्वच्छता शुल्क वसूली के मामले में वरीय पदाधिकारी मौन साधे हैं।

किस पंचायत में हैं कितने घर

केसठ में कुल 3774 घरों में से मात्र 400 घर, रामपुर में 2665 घरों में 70 घर व कतिकनार में कुल 2496 घरों में से मात्र 300 घरों से ही यूजर चार्ज मिलता है।

कहते हैं आधिकारी

बीडीओ मिथिलेश बिहारी वर्मा ने कहा कि अधिक से अधिक यूजरों को चार्ज देने को लेकर जागरूक किया जा रहा है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें