ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहार बक्सर26 विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों का काटा एक दिन का वेतन

26 विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों का काटा एक दिन का वेतन

कार्रवाई डीएम ने चौसा प्रखंड के 49 विद्यालयों की जांच का दिया था निर्देश 26 विद्यालयों में पचास प्रतिशत से कम बच्चों की उपस्थिति पाई गई बक्सर, हिन्दुस्तान प्रतिनिधि। शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव...

26 विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों का काटा एक दिन का वेतन
हिन्दुस्तान टीम,बक्सरThu, 07 Dec 2023 09:30 PM
ऐप पर पढ़ें

कार्रवाई
डीएम ने चौसा प्रखंड के 49 विद्यालयों की जांच का दिया था निर्देश

26 विद्यालयों में पचास प्रतिशत से कम बच्चों की उपस्थिति पाई गई

बक्सर, हिन्दुस्तान प्रतिनिधि। शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक की सख्ती का परिणाम है कि इन दिनों शिक्षा व्यवस्था में भूचाल आया हुआ है। एक तरफ सरकारी विद्यालयों में छात्रों की उपस्थिति बढ़ाने को लेकर शिक्षा विभाग लगातार सख्त कदम उठा रहा है। यहीं वजह है कि सरकारी विद्यालयों में काफी संख्या में बच्चे पढ़ने पहुंच रहे है। तो वहीं दूसरी तरफ इतनी सख्ती के बाद भी कुछ विद्यालय ऐसे है, जहां बच्चों की उपस्थिति पचास प्रतिशत से भी कम पाई जा रही है। जबकि विद्यालयों में प्रतिदिन बच्चों की उपस्थिति 75 प्रतिशत से अधिक सुनिश्चित करने का सीधा निर्देश है।

ऐसे विद्यालयों के प्रति डीएम भी लगातार एक्शन में दिख रहे है। बता दें कि डीएम के निर्देश पर चौसा प्रखंड स्थित 26 विद्यालयों के प्रधानाध्यापक व प्रभारी प्रधानाध्यापकों का डीईओ अनिल कुमार द्विवेदी ने एक दिन के वेतन कटौती का फरमान जारी किया है। इस संबंध में डीईओ ने बताया कि 1 सितंबर को डीएम ने चौसा प्रखंड के कुल 49 विद्यालयों की जांच का निर्देश दिया था। जिसमें से 26 विद्यालयों में पचास प्रतिशत से कम बच्चों की उपस्थिति पाई गई थी। इसके अलावा शौचालयों की साफ-सफाई व कई अन्य अनियमिततायें भी देखी गई। इसी को लेकर इन विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों पर कार्रवाई की गई। जबकि विभाग का सख्त निर्देश है कि विद्यालयों में यदि पचास प्रतिशत से कम बच्चों की उपस्थिति होती है तो इसकी जबावदेही प्रधानाध्यापकों की होगी। बावजूद इन विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों द्वारा अपने विद्यालयों के प्रति उदासीनता व लापरवाही बरती जा रही थी।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें