ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार बक्सरसीएचसी में सुविधाएं नदारद, कर्मी और मरीज परेशान

सीएचसी में सुविधाएं नदारद, कर्मी और मरीज परेशान

अनदेखी 01 साल से खराब है ओपीडी कमरे का एयर कंडीशन हीट स्ट्रोक के बीच चिकित्सकों व मरीजों को परेशानी फ़ोटो संख्या 03 कैप्शन - नावानगर स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र। नावानगर, एक संवाददाता। स्थानीय...

सीएचसी में सुविधाएं नदारद, कर्मी और मरीज परेशान
default image
हिन्दुस्तान टीम,बक्सरSat, 15 Jun 2024 08:30 PM
ऐप पर पढ़ें

अनदेखी
01 साल से खराब है ओपीडी कमरे का एयर कंडीशन

हीट स्ट्रोक के बीच चिकित्सकों व मरीजों को परेशानी

फ़ोटो संख्या 03 कैप्शन - नावानगर स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र।

नावानगर, एक संवाददाता। स्थानीय सीएचसी में सुविधाओं की कमी के चलते मरीजों और स्वास्थ्यकर्मियों को काफी परेशानी हो रही है। मरीजों के स्वास्थ्य परीक्षण वाले ओपीडी कमरे में गर्मी से चिकित्सक बैठने का नाम नहीं ले रहे हैं। मरीजों को भी गर्मी में काफी परेशानी झेलनी पड़ रही है। पूछने पर पता चला कि ओपीडी में लगा एसी एक साल से खराब है। जिसे अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही से न तो रिपेयर कराया गया, और न ही बदला गया। जिससे तपिश भरी गर्मी में चिकित्सकों व स्वास्थ्य कर्मियों के साथ-साथ मरीजों को परेशानी होती है। स्वास्थ्य प्रबंधक रवि रंजन सिन्हा ने बताया कि एनएचएम में राशि उपलब्ध नहीं होने से एसी की खरीदारी नहीं हुई है। इसके अलावा भी अस्पताल में अनेक कुव्यवस्था देखने को मिली। लेबर वार्ड में एसी खराब होने से मरीज बेहाल देखे गए। अस्पताल के लैब में भी एसी नहीं रहने से लैब कर्मियों को परेशानी झेलनी पड़ रही है। कर्मियों ने बताया कि गर्मी के चलते लैब का कंप्यूटर व मशीनें बंद हो जाती है।

गांवों से कुल 55 मरीज अस्पताल पहुंचे

प्रखंड क्षेत्र के कई गांवों से शनिवार को कुल 55 मरीज अस्पताल पहुंचे थे। गर्मी के बीच जैसे-तैसे ओपीडी में स्वास्थ्य परीक्षण कर दवाईयां दी गई। स्वास्थ्य कर्मियों ने बताया कि अस्पताल में दवा की कमी नहीं है। सुविधाओं का टोटा है। फर्मासिस्ट अरुण कुमार ने बताया कि सभी मरीजों को दवा अस्पताल से ही मिल जाती है। ओपीडी में कुल 130 और इंडोर में 70 प्रकार की दवाइयां उपलब्ध है। सभी तरह की जांच भी अस्पताल में होती है। चिकित्सकों ने बताया कि इस समय लू लगने और सर-बदन दर्द के अधिक मरीज अस्पताल पहुंच रहे हैं। प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. कमलेश कुमार ने कहा कि राशि उपलब्ध नहीं होने से एसी की खरीदारी नहीं हो रही है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।