DA Image
23 सितम्बर, 2020|2:33|IST

अगली स्टोरी

बक्सर जिले में चार दिवसीय अनुष्ठान शुरू होते ही छठी मइया के गीतों से गूंजने लगे शहर और गांव

बक्सर जिले में चार दिवसीय अनुष्ठान शुरू होते ही छठी मइया के गीतों से गूंजने लगे शहर और गांव

नहाय-खाय के साथ गुरुवार को सूर्योपासना का चार दिवसीय अनुष्ठान शुरु होते ही गांव और शहर में छठ मइया के गीत गूंजने लगे हैं। छठ को लेकर आस्था चरम पर पहुंचने लगी है। सभी घरों में छठ मइया को लेकर कार्य सम्पादित होने लगे हैं। सुबह में छठ व्रतियों ने ही नहीं बल्कि घर के सभी सदस्यों ने स्नान, ध्यान और पूजन करने के बाद भी प्रसाद ग्रहण किया। गंगा घाट पर स्नान करने के लिए भारी भीड़ व्रतियों की उमड़ी। लोक अस्था व सूर्योपासना का महापर्व छठ नहाय-खाय के साथ शुरु होने के बाद से गांव से लेकर शहर तक का वातावरण छठमय हो गया है। गंगा घाट तो प्रमुख है ही, जिले के अन्य सभी सहायक नदियों पर बनाए गए छठ घाट व सरोवरों की सुंदरता भी देखते बन रही है। पूरी पवित्रता व स्वच्छता से इस पूजा की शुरुआत हो चुकी है। घाट साफ हैं, घाट पर वेदियां भी बन चुकी है। अब इन घाटों पर प्रकाश व कृत्रिम लाइट लगाकर सजाने का काम प्रशासन की ओर से शुरु कर दिया गया है। गंगा में बैरिकेडिंग का कार्य पूरा कर लिया गया है। बैरिकेडिंग पर चेतावनी से संबंधित सूचना भी लगायी गयी है। प्रशासन ने डुमरांव व बक्सर के खतरनाक घाटों को चिन्हित कर लिया है। इन घाटों पर लोगों से सावधानी पूर्वक अर्घ्य देने को कहा गया है। प्रशासन कोई भी चूक नहीं रहे इसको लेकर तैयारी अंतिम रुप दे चुका है। गांवों में युवाओं की टोली तलाबों के आस-पास सफाई करने के बाद व्रतियों के लिए बैठने व अर्घ्य देने की व्यवस्था भी कर रही है। शहर और गांव के ब ाजार भी छठ पूजा की सामग्रियों से पट गए हैं। छठ पूजा को लेकर दूसरे राज्यों से आने वाले लोगों का सिलसिला अंतिम दिनों में और तेज हो गया है। ट्रेनों और बसों में यात्रियों की भीड़ है। परदेशियों के पहुंचने से घर गुलजार हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Cities and villages resonate with the songs of the Sixth Maiya as the four-day ritual begins in Buxar district