DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › बिहारशरीफ › शिक्षक नियोजन: अभ्यर्थियों ने ही खोली फर्जी अभ्यर्थियों की पोल
बिहारशरीफ

शिक्षक नियोजन: अभ्यर्थियों ने ही खोली फर्जी अभ्यर्थियों की पोल

हिन्दुस्तान टीम,बिहारशरीफPublished By: Newswrap
Mon, 11 Oct 2021 09:50 PM
शिक्षक नियोजन: अभ्यर्थियों ने ही खोली फर्जी अभ्यर्थियों की पोल

शिक्षक नियोजन: अभ्यर्थियों ने ही खोली फर्जी अभ्यर्थियों की पोल

डीएम को सौंपी ज़िलेभर के 75 फर्जी अभ्यर्थियों की सूची

ज़िला एनआईसी की वेबसाइट से मिलान कर पकड़ीं गड़बड़ियां

75 से 37 चयनित अभ्यर्थी हैं महिला

सबसे अधिक सिलाव प्रखण्ड के 14 अभ्यर्थी

पहली से पांचवी क्लास के शिक्षक नियोजन का है मामला

फोटो :

डीईओ : जिला शिक्षा कार्यालय।

बिहारशरीफ। हिन्दुस्तान संवाददाता

शिक्षक नियोजन की गड़बड़ियों से विभाग के अधिकारी पर्दा हटाएंगे, इस बात से अभ्यर्थियों की उम्मीदें कम हो गई हैं। शायद इसी कारण शिक्षक नियोजन के अभ्यर्थियों ने ही एनआईसी की वेबसाइट से मिलान कर फर्जी अभ्यर्थियों की सूची डीएम योगेन्द्र सिंह को सौंप दी है। विभाग के अधिकारी अब तक मौन हैं, पर अभ्यर्थियों ने ही फ़र्ज़ी अभ्यर्थियों की पोल खोलकर रख दी है।

डीएम को सौंपी रिपोर्ट में ज़िलेभर के कथित 75 फर्जी अभ्यर्थियों नाम शामिल हैं। उन 75 लोगों में से अकेले 37 महिला अभ्यर्थियों के नाम हैं। जबकि, सबसे अधिक सिलाव प्रखण्ड के 14 अभ्यर्थियों के नाम शामिल हैं। जिलेभर में पहली से पांचवी क्लास के शिक्षक नियोजन का मामला है।

अधिकारियों का भी मेल:

आवेदक अभ्यर्थी आर्यन राज, मुकेश कुमार, मंटू कुमार, धन्नू वर्मा, संजीव कुमार, डार्विन, विक्रांत कुमार व अन्य ने बताया कि जिले में शिक्षक नियोजन में बड़े पैमाने पर गड़बड़ी हुई है। इसमें अभ्यर्थी, नियोजन इकाई व विभाग के अधिकारियों तक का मेलजोल रहा है। इस कारण कोई भी अधिकारी नियोजन इकाई के खिलाफ एक शब्द भी नहीं बोलते। क्योंकि, उन्हें पता है कि अगर उनके खिलाफ जुबान खोला तो फिर उनका भी बचना मुश्किल हो जाएगा। उनलोगों का आरोप है कि नियोजन से एक दिन पहले तक अभ्यर्थियों का आवेदन जमा लिया गया है।

डीएम को दिए गए आवेदन के अनुसार राजगीर के अमन कुमार सुमन का चयनित मेधा सूची में अंक कुछ तो अंतिम मेधा सूची में कुछ है, संजीता कुमारी का एनआईसी की वेबसाइट पर अपलोड औपबंधिक व अंतिम मेधा सूची में नाम नहीं है। इसी प्रकार, चन्द्रशेखर कुमार, रोहित कुमार, संगीता कुमारी, ललीता कुमारी, अर्चना कुमारी, राजीव रंजन, विकास कुमार, पूनम कुमारी, पुष्पांजलि कुमारी, अमित कुमार, निभा कुमारी, सतीश कुमार, रंजनी कुमारी व संजीत कुमार का नाम शामिल है।

औपबंधिक, अंतिम मेधा सूची और चयन सूची में अंतर:

सिलाव प्रखंड के आशीष कुमार की एनआईसी वेबसाइट पर औपबंधिक, अंतिम मेधा सूची और चयन सूची में काफी अंतर है। इसी प्रकार, राजन कुमार, प्रदीप कुमार, गुड़िया कुमारी, सुरुचि कुमारी, समीत कुमार, सुजीत कुमार, सुमन भारती, तरुण कुमार, पूनम भारती, अमृता रानी, सुषमा कुमारी, कुन्दन कुमार व अंशिका के खिलाफ आवेदन दिया गया है। जबकि, गिरियक प्रखंड की विभा कुमारी, अस्थावां की खुशबू भारती, इस्लामपुर के धर्मेन्द्र कुमार, दिनेश कुमार, विश्वजीत कुमार, नीतू कुमारी, गौतम कुमार, स्नेहा कुमारी, अनीता कुमारी, पंकज कुमार, रेखा कुमारी, अभिषेक राज, नीलू सिन्हा, रश्मि कुमारी, उदय कुमार, नीतीश कुमार, कली कुमारी व रानी कुमारी।

इसी प्रकार, बेन की प्रीति कुमारी, नीतू कुमारी, शशि रंजन कुमार वर्मा, शैलेन्द्र कुमार, पूजा कुमारी, चांदनी कुमारी व विपिन कुमार, परवलपुर के मुकेश कुमार, जिम्मी साल्वी, रामस्वरूप राय, संतोष प्रसाद विभा कुमारी व नीलू कुमारी, चंडी की रीता कुमारी, सोनी कुमारी, उपेन्द्र कुमार, वेद प्रकाश कुमार, मुकेश पासवान, अनीश कुमार कग नाम शामिल हैं। जबकि, चंडी के की संपूर्ण मेधा सूची में गड़बड़ी का सबूत दिया गया है। हरनौत के पंकज कुमार, सरमेरा के सुबोध कुमार, अमित कुमार, रजनी कुमारी व संगीता कुमारी, बिहारशरीफ की सोनी कुमारी के भी नाम शिकायत पत्र में शामिल हैं।

संबंधित खबरें