ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार बिहारशरीफडूबने की ह्रदयविदारक घटना सुन भावुक हुए लोग

डूबने की ह्रदयविदारक घटना सुन भावुक हुए लोग

डूबने की ह्रदयविदारक घटना सुन भावुक हुए लोगडूबने की ह्रदयविदारक घटना सुन भावुक हुए लोगडूबने की ह्रदयविदारक घटना सुन भावुक हुए लोगडूबने की ह्रदयविदारक घटना सुन भावुक हुए लोगडूबने की ह्रदयविदारक घटना...

डूबने की ह्रदयविदारक घटना सुन भावुक हुए लोग
default image
हिन्दुस्तान टीम,बिहारशरीफSun, 16 Jun 2024 10:15 PM
ऐप पर पढ़ें

डूबने की ह्रदयविदारक घटना सुन भावुक हुए लोग
आलोक ने बतायी आपबीती तो रो पड़े ग्रामीण

बताते बताते रो पड़ते थे आलोक बाबू

अस्थावां, निज संवाददाता।

बाढ़ के उमानाथ में गंगा नदी में नाव के पलटने से उसपर सवार सभी 17 लोग पानी में समाने लगे। इस नाव पर अवधेश बाबू के भगिना आलोक बाबू भी सवार थे। हर ग्रामीण उनसे घटना जानना चाहता था। वे रुंधे गल से कुछ भी नहीं बोल पा रहे थे। डूबने की ह्रदयविदारक घटना सुन ग्रामीण बहुत भावुक हुए। लोगों की आंखों में आंसू आ गए। आलोक भी आपबीती बताते बताते कई बार रो पड़े।

उन्होंने बताया कि किनारे से कुछ ही दूर नाव बढ़ी थी। अचानक से नाव में पानी भरने लगा। इससे नाव बैठने लगा। जब तक हम कुछ समझते नाव पानी में डूबता चला गया। इस दौरान हमलोंगों ने बचाओ बचाओ चिल्लाया। तट पर खड़े कई नाविक इधर लपके। लेकिन, तब तक नाव गंगा नदी में समा गयी। उस पर सवार सभी 17 लोग पानी में जहां-तहां नजर आ रहे थे। किसे बचाते किसे नहीं बचाते, यह समझ में नहीं आ रहा था। बचाने में नाविकों ने बहुत मदद की। चारों तरफ से नाव पहुंच गए। उन्होंने इधर उधर डूब-उतरा रहे लोगों को बचाया। मामा अवधेश कुमार सिन्हा भी तीन बार पानी के उपर नजर आए। इसके बाद वे नजर नहीं आए। अन्य लोगोंं को कैसे निकाला गया, यह पता तक नहीं चला। इसके आगे कहते कहते उनका गला रुंध गया। वे रोने लगे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।