DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नालंदा के हरनौत में छात्र जदयू नेता की बरामदगी के लिए सड़क जाम

नालंदा के हरनौत में छात्र जदयू नेता की बरामदगी के लिए सड़क जाम

हरनौत थाना क्षेत्र के खरुआरा गांव निवासी व छात्र जदयू के प्रदेश महासचिव राकेश कुमार पिछले चार दिनों से गायब हैं। उनके अपहरण की आशंका जताते हुये परिजन ने तीन लोगों के खिलाफ एफआईआर करायी है। शुक्रवार को छात्र नेता की बरामदगी के लिए ग्रामीण सड़क पर उतर गये। हरनौत बाजार के चंडी मोड़ को जाम कर दिया। एनएच 31 पर पां घंटे तक लगे जाम से गाड़ियों का आवागमन ठप पड़ गया। ग्रामीण पुलिस पर संदिग्ध को गिरफ्तार कर छोड़ देने का आरोप लगा रहे थे। लोगों ने सड़क पर टायर जलाकर आगजनी भी की। घटना की सूचना पाकर कई थानों की पुलिस वहां पहुंच गयी, लेकिन लोगों ने जाम नहीं हटाया। बाद में डीएसपी नीशित निशीत प्रिया मौके पर पहुंचे और लोगों को कार्रवाई का आश्वासन ,तब जाम हटा।

महिला-पुरुष बैठ गये सड़क पर:-

शुक्रवार को दोपहर के करीब दर्जनों की संख्या में महिला-पुरुष चंडी मोड़ के पास सड़क पर बैठकर नारेबाजी करने लगे। लोगों ने गाड़ियों की आवाजाही रोक दी। एक यात्री बस को तिरछा खड़ा कर रोड को पूरी तरह से ब्लॉक कर दिया। कुछ युवकों ने सड़क पर टायर जला दिया। दोपहिया वाहनों को भी वहां से गुजरने नहीं दिया जा रहा था। लोग पुलिस-प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगा रहे थे। दोपहर 12 बजे से लगा जाम देर शाम तक लगा रहा।

पुलिस बनी रही मूकदर्शक:-

जाम के दौरान यात्रियों से प्रदर्शनकारियों की नोकझोंक भी हुई। एनआईओएस की परीक्षा के लिए जा रहे छात्रों व प्रोफेसर से तू-तू, मैं-मैं हुआ। बाद में उनके परिचय पत्र दिखाने पर स्थानीय बुद्धिजीवियों के हस्तक्षेप के बाद उन्हें जाने दिया गया। जाम की सूचना पाकर स्थानीय थाना के अलावा कल्याण बिगहा, चेरो, बेना, गोखुलपुर थानों की पुलिस भी घटनास्थल पर पहुंच गयी। उन्होंने लोगों को समझाने की कोशिश की, पर किसी ने उनकी बात नहीं सुनी। मजबूर होकर पुलिस भी मूकदर्शक बनकर देखती रही।

क्यों नाराज थे लोग:-

परिजन ने बताया कि छात्र नेता राकेश कुमार के गायब हुये चार दिन हो गये। तीन दिन पहले एफआईआर भी हो चुकी है। फिर भी पुलिस कुछ नहीं कर रही है। बार-बार टहला रही है। जिसके घर से राकेश के गायब होने की आशंका है, पुलिस ने उसे पकड़कर छोड़ दिया। अबतक न तो राकेश का कुछ पता चला है और न ही कोई गिरफ्तार हुआ है।

प्रेम-प्रसंग हो सकता है घटना का कारण:-

थानाध्यक्ष संजय कुमार ने बताया कि मनीष कुमार, उसके भाई चंदन कुमार व दिवाकर कुमार के खिलाफ एफआईआर करायी गयी है। डिहरा के दीपक को पकड़ा गया था, पर उसके खिलाफ कोई साक्ष्य नहीं मिला, इसलिए छोड़ दिया गया। कई लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी में जुटी है। शीघ्र ही राकेश को बरामद कर लिया जायेगा। उन्होंने कहा कि घटना का कारण प्रेम-प्रसंग हो सकता है। मामले की छानबीन हो रही है।

क्या है मामला:-

परिजन का कहना है कि मंगलवार को राकेश घर से निकले। उन्होंने पीएनबी की शाखा से रुपये निकाले। उसके बाद बाजार निवासी मनीष कुमार उन्हें बुलाने आया। दोनों बाइक पर सवार होकर डिहरा दीपक कुमार के घर गये। कुछ देर बाद दिवाकर भी वहां गया। उसके बाद से न तो राकेश का पता चल रहा है और न मनीष का। दोनों के मोबाइल भी बंद हैं। मनीष के भाई से पूछताछ की गयी तो वह टालमटोल करने लगा। उसके बाद से वह भी मोबाइल बंद कर गायब है। कुछ लोग हत्या की आशंका भी व्यक्त कर रहे थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:nalanda: road jammed for the recovery of Student JDU leader