नालंदा में पंचायत सचिव को गोलियों से भूना

नालंदा जिले के परबलपुर थाना क्षेत्र के डुमरी गांव में बुधवार की रात तीन बदमाशों ने पंचायत सचिव को गोलियों से भून दिया। बदमाशों ने घर के बाहर दालान में सो रहे सचिव को जगाया, उनका नाम पूछा और उन्हें तीन गोलियां मार दी। घटना के चश्मदीद उनके साथ सो रहे चचेरे भाई ने जब शोर मचाया तो परिजन जुटे। घायल को इलाज के लिए ले जाने के दौरान रास्ते में ही उनकी मौत हो गयी। गांव निवासी मृतक रासबिहारी सिंह (55 वर्षीय) प्रखंड की पिलीच पंचायत में पदस्थापित थे। अनुमान लगाया जा रहा है कि भाड़े के हत्यारों ने घटना को अंजाम दिया है। उनके परिजन ने गांव के ही पूर्व मुखिया पर जमीन विवाद में हत्या करवाने का आरोप लगाया है। घटना की सूचना पाकर डीएसपी मुत्तफिक अहमद समेत पुलिस के वरीय अधिकारी घटनास्थल पर पहुंचे और अपराधियों को जल्द गिरफ्तार करने का भरोसा दिया।

बदमाशों ने दोनों भाइयों से पूछा नाम:-

सचिव अपने चचेरे भाई सुरेन्द्र सिंह के साथ घर के बाहर बने दालान में सो रहे थे। सुरेन्द्र सिंह ने बताया कि करीब साढ़े ग्यारह बजे रात को किसी ने उन्हें थप्पड़ मार कर जगा दिया। नींद खुली तो देखा कि पांच-छह बदमाश पिस्तौल लिये खड़े थे। एक ने उनसे नाम पूछा। इसके बाद उन्होंने भाई को जगाया। उनसे भी उनका नाम पूछा। नाम बताते ही बदमाश उन्हें खींचकर दालान से बाहर ले गये। वहां बदमाशों ने उन्हें तीन गोलियां मार दी। गोली उनके हाथ, पेट और सीने में लगी। गोली मारने के बाद बदमाशों ने बाउंड्री बॉल का दरवाजा खोला और भाग गये।

सदर अस्पताल में गयी जान:-

गोलियों की आवाज व सुरेन्द्र सिंह के शोर मचाने पर लोगों की नींद खुली। ग्रामीण उन्हें लेकर परबलपुर अस्पताल पहुंचे, जहां से प्राथमिक उपचार के बाद सदर अस्पताल भेज दिया गया। बिहारशरीफ लाने के दौरान ही उन्होंने दम तोड़ दिया। मृतक के भाई धनंजय कुमार का आरोप है कि पूर्व मुखिया से जमीन विवाद चल रहा था। पहले भी अंजाम भुगतने की धमकी दी थी। उसी के इशारे पर घटना को अंजाम दिया गया है। डीएसपी ने घटनास्थल पर छानबीन के बाद बताया कि अपराधियों को 48 घंटे के अंदर गिरफ्तार करने का प्रयास होगा। थानाध्यक्ष अनिल कुमार के नेतृत्व में पुलिस छापेमारी में जुट गयी है।

READ SOURCE