DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नालंदा में डम्फर से कुचलकर नाईट गार्ड की मौत, विरोध में सड़क जाम

नालंदा में डम्फर से कुचलकर नाईट गार्ड की मौत, विरोध में सड़क जाम

दीपनगर थाना क्षेत्र के पीपीरतल-सब्बैत मोड़ के पास मंगलवार की देर शाम डम्फर से कुचलकर एक युवक की मौत हो गयी। सिलाव थाना क्षेत्र के नेपुरा गांव निवासी तारकेश्वर सिंह का 30 वर्षीय पुत्र गोपाल कुमार फोरलेन निर्माण में लगी कंपनी में नाइट गार्ड के तौर पर काम करता था। पुलिस ने परिजन को बताये बिना शव का पोस्टमार्टम करा कंपनी के कर्मियों के हवाले कर दिया। इससे ग्रामीण भड़क गये और बुधवार की सुबह नेपुरा गांव के पास एनएच 82 जाम कर दिया। करीब दो घंटे तक सड़क जाम रहने से यातायात व्यवस्था चरमरा गयी। काफी समझाने बुझाने के बाद परिजन जाम हटाने को तैयार हुए।

तबीयत खराब होने के कारण सो गया था डम्फर के नीचे:-

लोगों की माने तो मंगलवार को गोपाल ड्यूटी करने आया था। तबीयत खराब होने के कारण सड़क किनारे खड़े एक डम्फर के नीचे वह लेट गया था। इसी दौरान दूसरे ट्रक ने डम्फर में धक्का मार दिया। धक्के से लुढ़ककर डम्फर का एक पहिया गोपाल के उपर चढ़ गया और घटनास्थल पर ही उसने दम तोड़ दिया। धक्के की आवाज सुनकर वहां पहुंचे कर्मियों ने यह देखकर पुलिस को सूचना दी। इसके बाद पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम सदर अस्पताल में कराया और कंपनी के कर्मियों को सौंपा। बाद में शव परिजन के हवाले कर दिया गया।

सूचना नहीं दिये जाने से नाराज थे ग्रामीण:-

दाह संस्कार करने की बजाय बुधवार को ग्रामीण शव को लेकर सड़क पर आ गये। सैकड़ों महिला व पुरुषों ने बिहारशरीफ-राजगीर मार्ग जाम कर दिया। दर्जनों महिलाएं सड़क पर बैठकर विलाप करने लगीं। जाम लगते ही गाड़ियों की कतार लगनी शुरू हो गयी। मलमास मेला के कारण इस मार्ग में ऐसे भी गाड़ियां अधिक चल रही हैं। जाम में फंसे हजारों लोग भीषण गर्मी में परेशान होते रहे। कई यात्री बोतल लेकर पानी की तलाश में इधर-उधर भटक रहे थे।

ठीकेदार को बुलाने की कर रहे थे मांग:-

नाराज ग्रामीण ठेकेदार को बुलाने की मांग कर रहे थे,जिसने गोपाल को काम पर रखा था। कई लोग कंपनी के मालिक से मृतक को मुआवजा दिये जाने की मांग कर रहे थे। सबसे अधिक गुस्सा लोगों में पुलिस के रवैये को लेकर था। ग्रामीण देवनंदन सिंह ने बताया कि रात में अज्ञात आदमी ने फोन कर हादसे की सूचना दी। जब वे लोग सदर अस्पताल पहुंचे तो देखा कि पोस्टमार्टम हो गया है। शव लावारिस की तरह पड़ा है और उसे कोई लेने वाला नहीं है। कंपनी के लोगों ने इस हादसे की जानकारी परिजन को क्यों नहीं दी।

अधिकारियों ने दिया 20 हजार का चेक:-

जाम की सूचना पाकर सिलाव थानाध्यक्ष राजेश कुमार चौधरी दलबल के साथ घटनास्थल पर पहुंचे। तुरंत ही बीडीओ अलख निरंजन व सीओ शैलेश कुमार भी वहां पहुंच गये। अधिकारियों ने ग्रामीणों से बात कर उन्हें समझाने की कोशिश की। कार्रवाई का आश्वासन दिया। बीडीओ ने मृतक की पत्नी छोटी देवी को 20 हजार रुपये का चेक दिया। करीब दो घंटे के बाद नाराज लोगों ने जाम हटाया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: nalanda: Night guard killed by crushing Dumfar, street jams in protest