DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नालंदा के नूरसराय में चालक की हत्या कर वाहन की लूट

नालंदा के नूरसराय में चालक की हत्या कर वाहन की लूट

नूरसराय में बदमाशों ने चालक की हत्या कर उसकी गाड़ी लूट ली। शव को सड़क किनारे झाड़ियों में फेंक दिया। रविवार की सुबह ककड़िया मोड़ के पास से शव बरामद किया गया। गले में एक लाल रंग का गमछा लिपटा था। आशंका है कि उसी के गमछे से गला घोंटकर उसकी हत्या की गयी है। मृतक की पहचान पटना जिला के बख्तियारपुर थाना क्षेत्र स्थित माधोपुर गांव निवासी राजाराम प्रसाद के 25 वर्षीय पुत्र शिवनाथ यादव के रूप में की गयी है। शिवनाथ की अपनी बोलेरो गाड़ी थी, जिससे वह बख्तियारपुर स्टेशन से सवारियों को ढोने का काम करता था।

सड़क किनारे पड़ी थी लाश:-

सुबह में बिहारशरीफ-नूरसराय मार्ग से गुजर रहे राहगीरों ने शव को देखा। शव की सूचना मिलते ही उसे देखने के लिए आसपास के ग्रामीणों की भीड़ जुट गयी। हालांकि कोई भी मृतक को पहचान नहीं पाया। सूचना पाकर पुलिस वहां पहुंची और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया। वहां मौजूद लोग तरह-तरह की चर्चा कर रहे थे। लोगों का कहना था कि युवक की हत्या करने के बाद उसे यहां फेंका गया था।

शाम को सदर अस्पताल पहुंचे परिजन:-

मृतक का भतीजा गोलू कुमार ने बताया कि उनके चाचा शाम को आठ बजे गाड़ी पर सवारी बिठाकर निकले थे। उन्होंने बताया था कि बिहारशरीफ जा रहे हैं। एनएच 20 जाम रहने के कारण तेलमर-चंडी होते हुये बिहारशरीफ जायेंगे। देर रात तक जब वे नहीं लौटे तो उनके मोबाइल पर फोन किया तो मोबाइल स्वीच ऑफ बताया। सुबह में बख्तियारपुर थाने को सूचना दी गयी। पूछताछ के बाद पता चला कि नूरसराय में एक लाश मिली है। यहां आकर देखा तो मृतक शिवनाथ हैं।

तीन लोगों ने गाड़ी को लिया था भाड़े पर:-

मृतक के परिजन हालांकि इस बात से अनजान हैं कि गाड़ी को भाड़े पर लेने वाले कौन लोग थे। उन्होंने साथी चालकों से पूछताछ की तो पता चला कि एक मर्द और एक औरत ने उनकी गाड़ी को बुक किया था। रात के करीब आठ बजे तीनों ने इमरजेंसी रहने का हवाला देकर बिहारशरीफ छोड़ने को कहा था। उसके बाद क्या हुआ किसी को पता नहीं। परिजन को आशंका है कि तीनों ने उसी के गमछा से गला घोंटकर हत्या कर दी और गाड़ी लूटकर फरार हो गये। विधि-व्यवस्था डीएसपी संजय कुमार ने बताया कि मृतक की पहचान हो गयी है। परिजन ने बख्तियारपुर रेल थाने में सनहा कराया है। वहां एफआईआर दर्ज नहीं होने पर नूरसराय थाने में एफआईआर की जायेगी। मामले की छानबीन चल रही है।

दो बच्चे हुये अनाथ:-

परिजन ने बताया कि शिवनाथ पहले गाड़ी की एजेंटी करता था। उसके बाद उसने एक एम्बेसडर कार खरीदी थी। बाद में उसने एक बोलेरो ले लिया था। उससे वह बख्तियारपुर जंक्शन के पास से सवारियों को ढोने का काम करता था। उसकी मौत से परिजन का रो-रोकर बुरा हाल है। दो छोटे-छोटे बच्चे दस साल का बेटा और आठ साल की बेटी के सिर से पिता का साया छिन गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:nalanda: Loot of the vehicle after killing the driver in noorsarai