DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नालंदा के सात माह के बच्चे का फतुहा में अपहरण

नालंदा के सात माह के बच्चे का फतुहा में अपहरण

नालंदा के सात माह के बच्चे का पटना जिले के फतुहा में अपहरण हो गया है। रक्षाबंधन के दिन फतुहा स्टेशन के पास मां बच्चे को लेटाकर हाथ धो रही थी। इसी दौरान बाइक सवार दो बदमाश सात माह के अखिलेश कुमार को ले भागे। जब महिला फतुहा थाने में फरियाद सुनाने गयी तो डांटकर भगा दिया गया। हताश होकर हरनौत थाना क्षेत्र के सबनहुआ गांव निवासी मुकेश रविदास की पत्नी ज्ञानती देवी घर लौट गयीं।

महिला का मायका नूरसराय थाना क्षेत्र का मकनपुर गांव है। मायके जाने के दौरान मंगलवार को देवीसराय चौक के पास महिला बेहोश होकर गिर गयी। दीपनगर थाने की पुलिस ने उसे सदर अस्पताल में भर्ती कराया। इलाज के दौरान उसने मीडियाकर्मियों को बच्चे के अपहरण की बात बतायी। इसके बाद पुलिस महकमे में हड़कम्प मच गया। आनन-फानन में नालंदा, फतुहा व रेल थानों की पुलिस जांच में जुट गयी। रक्षाबंधन के दिन ही नरसंडा की छोटी बच्ची का अपहरण कर हत्या कर दी गयी थी। इन दोनों मामलों को लोग तंत्र-मंत्र से जोड़कर देख रहे हैं। एक बार फिर नरबलि दिये जाने की चर्चा जोर पकड़ रही है।

ननद के घर जाने के दौरान हुआ हादसा :

महिला के पिता कारु रविदास ने बताया कि 25 अगस्त को राखी बांधने के लिए उनकी बेटी मायके आयी थी। 26 को राखी बांधकर वह अपनी ससुराल चली गयी। महिला का कहना है कि सबनहुआ पहुंचने पर घर में ताला लगा था। तभी उसे याद आया कि पति तीन अन्य बच्चों को लेकर हिलसा थाना क्षेत्र स्थित अपनी बहन के घर गये हैं। महिला को भी वहीं आने को कहा था। उसके बाद महिला हरनौत स्टेशन पहुंची और हिलसा जाने के लिए ट्रेन से फतुहा चली गयी।

बच्चे को लिटाकर धो रही थी हाथ :

महिला ने बताया कि स्टेशन पर उतरने के बाद पास में ही शौच के लिए गयी। बच्चे को थोड़ी दूर लेटाकर वह हाथ धो रही थी। उसी समय बाइक सवार दो बदमाश आये और बच्चे को उठाकर भाग निकले। उसने शोर मचाकर पीछा करने की कोशिश की पर बदमाश हाथ नहीं आये। घटना के बाद महिला बेहोश हो गयी। स्थानीय लोगों ने उसे अस्पताल पहुंचा दिया। वहां महिला से पूछताछ के लिए पुलिस आयी। महिला ने आपबीती सुनायी पर पुलिस को यकीन नहीं हुआ। पुलिस ने इलाज कराकर उसे छोड़ दिया। थक-हार कर महिला अपने घर लौट गयी।

बस से उतरते ही हुई बेहोश :

मंगलवार को वह अपने मायके आ रही थी। देवीसराय चौक के पास बस से उतरते ही बेहोश होकर गिर गयी। स्थानीय लोगों की सूचना पर पुलिस ने उसे अस्पताल में भर्ती करवा दिया। होश आने के बाद महिला ने अपनी पहचान बतायी। उसके परिजन को सूचना दी गयी। इसके बाद सारे मामले का खुलासा हुआ।

सदर अस्पताल पहुंचे पुलिस अधिकारी :

घटना के मीडिया में आने के बाद पुलिस महकमे में हड़कम्प मच गया। सदर डीएसपी निशित प्रिया, सीआई अशोक कुमार, बिहार थानाध्यक्ष केशव कुमार मजूमदार सदर अस्पताल पहुंचे। महिला का बयान लिया गया। डीएसपी ने बताया कि महिला का बयान दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी गयी है। फतुहा थाना की पुलिस व फतुहा रेल थाना से भी संपर्क किया गया है।

रक्षाबंधन के दिन दो बच्चों का हुआ अपहरण:

बिहारशरीफ। रक्षाबंधन के दिन ही नरसंडा बाजार से सीआईएसएफ जवान की चार वर्षीया फ्रूटी को अगवा कर लिया था। बच्ची बख्तियारपुर में मिली, जिसकी हालत काफी गंभीर थी। अगले दिन सुबह में उसकी मौत हो गयी। बच्ची ने बताया था कि बाइक सवार बदमाशों ने उसे अगवा किया था। बच्ची देखने में लड़का की तरह लगती थी। लोगों का कहना था कि लड़का समझकर उसे बलि देने के लिए अगवा किया गया था। यह पता लगने पर कि वह लड़की है, जहर देकर उसकी हत्या कर दी गयी।

उसी दिन फतुहा में बाइक सवार दो बदमाशों ने सात महीने के बच्चे को अगवा किया। लोग तरह-तरह की चर्चा कर रहे हैं। दोनों घटनाओं में समानता खोजने की कोशिश कर रहे हैं। हो सकता है कि बख्तियारपुर में फ्रूटी से छुटकारा पाने के बाद वही बदमाश फतुहा गये और अकेले देखकर बच्चे को उठा लिया। एक बात तो तय है कि यह फिरौती के लिए नहीं हुआ है। तो आखिर बच्चे का अपहरण क्यों किया गया, यह सवाल लोगों के साथ पुलिस को भी परेशान कर रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:nalanda: Kidnapping of seven-month child in Fatuha