DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नालंदा में सात स्कूलों के एचएम ने अब तक नहीं जमा किया जुर्माना

नालंदा में बच्चों के मुंह का निबाला गटकने वाले शिक्षक इतने निडर हो चुके हैं कि उनके ऊपर अधिकारियों के आदेश का भी असर नहीं होता दिख रहा है। 2016-17 में दिए गए आदेश का अब तक पालन नहीं किया गया है। जिले के सात स्कूलों के हेडमास्टरों पर मध्याह्न भोजन की राशि में गड़बड़ी करने का आरोप लगा था। जुर्माना के तौर पर सातों एचएम पर एमडीएम का 1,68,759 रुपया बाकी है। अधिकारियों ने इसे जल्द जमा करने का आदेश दिया था। लेकिन एक वर्ष से अधिक हो जाने के बाद भी आज तक न तो शिक्षक पैसा जमा किए और न ही अपील में ही गए हैं।

मध्याह्न भोजन के डीपीओ शंकर प्रिय ने बताया कि ऐसे शिक्षकों पर कार्रवाई की रणनीति बनाई जा रही है। जल्द ही इन सबों से स्पष्टीकरण की मांग की जाएगी। संतोजनक जवाब नहीं आने पर विभागीय कार्रवाई की जाएगी। बच्चों का निबाला गटकने वाले शिक्षकों को बख्शा नहीं जा सकता है।

किस एचएम पर कितना है बाकी-:

प्रखंड स्कूल राशि

बिन्द प्राथमिक वि. धर्मपुर 6656

सिलाव उत्क्रमि म.वि गंदूपुर 47086

बेन प्राथमिक वि. मठपर 3994

हिलसा प्राथमिक वि. मनपुरवा 3994

नूरसराय मध्य विद्यालय चंडासी 68,689

हरनौत मध्य विद्यालय अमरपुर 34,344

अपील में फंसा है 2,06,518 रुपए के मामला-:

वर्ष 2016-17 से मध्याह्न भोजन में गड़बड़ी करने वाले 30 शिक्षकों का मामला डीईओ कार्यालय में अभी भी अपील में अटका है। इतने दिनों के बीच नौ शिक्षकों का मामला निपटाया भी गया है। मामला फंसे रहने के कारण विभाग को 2,06,518 रुपए का नुकसान हो रहा है। इसमें अस्थावां एक, बिहारशरीफ एक, बिन्द दो, गिरियक दो, हरनौत एक, इस्लामपुर दो, कतरीसराय एक, नूरसराय 11, रहुई पांच व थरथरी का एक मामला डीईओ कार्यालय में अपील के लिए फंसा हुआ है। अपील में गए 10 मामलों में 13 मामले वर्ष 2016 और शेष 2017 के हैं।

क्या कहते हैं अधिकारी-:

इस प्रकार के मामले को छह माह के अंदर ही निपटा दिया जाता है, लेकिन यह मामला मेरे संज्ञान में नहीं था। अब इस मामले का जल्द ही निपटारा कर दिया जाएगा। जो शिक्षक दोषी होंगे उनपर कार्रवाई करते हुए उनसे पैसे की वसूली की जाएगी।

मनोज कुमार, डीईओ, नालंदा

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:nalanda: HMs of seven schools have not deposited Fine till now